Wednesday, October 26, 2016

गाँधी से पहले महाराजा सूरजमल बरतते थे, "अपराध का जवाब अपराध नहीं" की थ्योरी!

महाराजा सूरजमल जी की जिंदगी से मुझे जो सबसे बड़ा सबक मिलता है वो यह कि कुटिलता-शियारी-षड्यन्त्र का उतना ही विरोध करो जितने से आपका बचाव हो सके| कुटिल के रास्ते से हट जाओ, इससे उसके दो हश्र होंगे; या तो उससे भी शातिर से टकरा के ध्वस्त हो जायेगा या फिर अपनी ही कुटिलता में कुढ़-कुढ़ मर जायेगा| और आपके दो फायदे होंगे, एक तो आपकी ऊर्जा बची रहेगी, दूसरी आप उसी शातिर को बाद में उस पर अहसान कर उसको दोहरी मार मारने के काबिल रहोगे|

पूना के पेशवा बाजीराव के छोटे भाई व् सदाशिवराव भाऊ की महाराजा सूरजमल को अब्दाली के खिलाफ "जाट-मराठा अलायन्स" बना के लड़ने की बात की आड़ में वार्ता के लिए बुला के बन्दी बनाने और फिर पूरी जाट-सेना को पानीपत में इस्तेमाल करने की इनकी कुटिलता को जाट-सुरमा पल में भांप गया था| परन्तु उस अफलातून ने इसका विरोध करने की बजाये, चुप्पी खींचना बेहतर समझा| अपनी ताकत को पेशवाओं की महत्वाकांक्षा की पूर्ती का साधन नहीं बनने दिया| उस सुजान के धैर्य और सन्तोष का परिणाम यह हुआ कि उसको बन्दी बनाने का सपना लेने वाले, पानीपत में घायल व् पराजित हो, उसी के दर पर फर्स्ट-ऐड पाए| और इस तरह पीढ़ियों-सदियों-शताब्दियों तक अपनी जमातों को उस जाट का ऋणी खुद ही बना गए|

आज के दिन, ठीक ऐसी ही रणनीति पूना के पास ही के नागपुरी राष्ट्रवादियों के साथ करने का वक्त आया है| आरएसएस/बीजेपी लाख उकसावे परन्तु उकसना मत; बल्कि इनके लिए अब्दाली का इंतज़ार करना| और अब्दाली अबकी बार भारत में ही है, इनकी जातिवाद और वर्णवाद की नीति में ही है| वो धीरे-धीरे विकराल रूप ले रहा है और इनको डंसने की ओर अग्रसर है; परन्तु यह उसको "जाट बनाम नॉन-जाट" के रूप में आपकी तरफ मोड़ने की फिराक में हैं; बच के रहना| संयम धारे रहना|

जय यौद्धेय! - फूल मलिक

अश्वनी चोपड़ा जैसे लोग पहले पंजाब में यूज (प्रयोग) हुए, अब हरयाणा में हो रहे हैं!

इनके बहकावे में आने से पहले आम हरयाणवी समझे इसको अच्छे से|

सबसे पहले समस्त हरयाणावासियों से एक अपील:

सलंगित अख़बार की कटिंग में न्यूज़ वाले जैसे लोगों ने (जिनमें इन महाशय के दादा जगत नारायण चोपड़ा का नाम टॉप में आता है) ने पहले पंजाब को तबाह करने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी और अब ये हरियाणा के लोगों के भाईचारे में आग लगाकर हरियाणा बर्बाद करना चाहते हैं| इसलिए सभी हरियाणा वासियों से विनम्र अपील है कि हरियाणा को बचाने के लिए पंजाब केसरी अखबार का बायकाट करें।

अब बात कि कैसे अरोड़ा/खत्री समुदाय इसके लीडरों के जरिये (क्योंकि आम अरोड़ा/खत्री शांतिप्रिय है, इसलिए इस लेख में बात भी सिर्फ अश्वनी चोपड़ा जैसे लोगों पर ही होगी) आरएसएस द्वारा दूसरी बार फिर से यूज किया जा रहा है:

अश्वनी चोपड़ा जैसे लोग, खुद को पंजाब में "हिन्दू अरोरा-खत्री" लिखवाते हैं, और पंजाब के बाहर जैसे कि हरयाणा, यहां पंजाबी लिखवाते हैं| इनके (हालाँकि खेलती आरएसएस है इनके जरिये, परन्तु यह इसको इनकी ढेढस्यानपट्टी मानते हैं) खेल को समझें| तो ये ऐसे लोग हैं, जो जब आग लगेगी तो हरयाणा छोड़कर खुद तो गुजरात या नागपुर भाग जायेंगे (क्योंकि अश्वनी चोपड़ा जैसों की हरकतों ने जब पंजाब में आतंकवाद सुलगाया था तो पंजाब के पंजाबियों ने ही या तो इनको वहाँ से खदेड़ दिया था या यह खुद भाग आये थे और हरयाणा में शरण ली थी) और पीछे रह जायेगा नफरत की आग में जलता-धधकता हरयाणा| लेकिन इसका जो अंजाम भुगतना पड़ेगा वो एक आम भोले-भाले अरोड़ा/खत्री को। ये लोग आरएसएस के हाथों में खेलते हैं, जबसे आरएसएस बनी है तब से उसकी कठपुतली रहे हैं| आरएसएस इनको ले के हरयाणा में एक्सपेरिमेंट कर रहा है| आरएसएस चाहता है कि पंजाबी शब्द को ले के हरयाणवी और पंजाबी के बीच विवाद पैदा किया जाए|

यह, अश्वनी चोपड़ा महाशय, कभी कहता है कि "सभी गैर -जाट एक हो जाओ, वर्ना जाट दबा लेंगे", तो कभी कहता है कि सभी पंजाबी एक हो जाओ| कभी कहता है कि अगर हरयाणा में पंजाबी राज लाना है तो सारे पंजाबी एक हो जाओ| कभी फेंकता है कि पाकिस्तान से आ कर हमने मेहनत से सब जमाया| कभी दूसरों को नसीहत देता है कि मांग के नहीं, मेहनत से खाओ; जबकि खुद बैंको के सैंकड़ों करोड़ जब्त किये बैठा है| लेकिन जो यह नहीं कहते वो यह कि सब हरयाणवी एकता और बराबरी के साथ रहो| क्योंकि यह अभी तक भी खुद को पाकिस्तान से ही आया हुआ मान रहे हैं, क्यों भाई आपकी माता श्री ने आपकी डिलीवरी पाकिस्तान के हॉस्पिटल में करवाई थी या भारत में?

इस बात को मेरे दिल्ली वाले मित्र मान साहब के तजुर्बे से, इस तरीके से समझाना चाहूंगा:

किस्सा मित्र की जुबानी: ईस्ट UP/बिहार का उदाहरण लेते हैं| दिल्ली में इनकी पापुलेशन काफी है| जिनको हम migrants from ईस्ट UP /बिहार बोलते हैं| इनको पूर्वांचली भी बोला जाता है| इनको ले के दिल्ली और मुंबई में खूब राजनीति होती है| और इसी चक्कर में राज ठाकरे जैसे गुंडे पैदा होते हैं| मेरी बात कुछ बिहारियों से हुई| वो बड़े खुश हुए कि दिल्ली में आम आदमी पार्टी जीती| मेरे को बोले कि देखो बिहारियों ने कमाल कर दिया, बिहार से आके दिल्ली में कितने सारे MLA बन गए| मैंने कहा सही बात है, 10-12 MLA बने होंगे| वो बड़े खुश थे| मैंने उन् बिहारियों से पूछा कि बिहार में तो जातिवाद बहुत ज्यादा है? वो बोले जी बिलकुल है| मैंने उनसे उनकी कास्ट पूछी कि तुम कौनसी कास्ट के हो | तो 1 ने बताया कि मै पासवान हूँ, एक ने कहा में यादव हूँ, एक ने कहा में कुर्मी हूँ, आदि -आदि मतलब सब के सब दलित या OBC थे| मैंने उनको कहा चलो अब मतलब की बात करते हैं| ये बताओ की दिल्ली में जो MLA या MP बने हैं, वो किस कास्ट के हैं, माना की बिहारी हैं| उनकी कास्ट तो होगी? अच्छा चलो ये बताओ की तुम्हारी कास्ट का कोई बिहारी MLA बना क्या? कोई बिहार का यादव, पासवान, कुर्मी या कोई और MLA बना क्या? एक दम से बोले नहीं | मानो एक दम से उनकी बत्ती जल गई, मुझे ऐसा लगा| तो फिर ये किस कास्ट के लोग है जो बिहारी तो है लेकिन तुम्हारी कास्ट के नहीं हैं? वो एक दम से चुप| मानो उनके अंदर का बिहार जाग गया हो, मतलब उनके अदर का जातिवाद जाग गया हो| मैंने कहा चलो मैं तुम्हें बताता हूँ कि उनकी कास्ट क्या है| 1 - झा, 2 - त्रिपाठी, 3 - तिवारी, मिश्रा, उपाध्याय, शर्मा, त्रिवेदी, चौबे आदि-आदि| अब मैंने उनको बताया कि ये लोग बने है MLA दिल्ली में| अब बताओ ये कौन हैं बिहारी या तथाकथित सवर्ण? एक दम से बोले कि ये तो सवर्ण होते हैं| वही सवर्ण ना जिनके जुल्मों के चलते, तुम लोग इधर जाटलैंड पर रोजगार और सुखचैन ढूंढने आते हो? बोले हाँ| चलो माना कि ये भी बिहारी हैं| तो इनके साथ -साथ अगर 1 पासवान, 1 यादव, 1 कुर्मी आदि भी MLA बन जाता तो किसी का क्या जाता? लेकिन इनको तो बिहार का तो छोडो, हरयाणा का योगेंद्र यादव तक रास नहीं आया| वो मेरी बातें सुनकर एक दम से shocked थे| मैंने कहा ये वो ही सवर्ण हैं तुम्हें बिहार में जुत्ते मारते हैं और दिल्ली में आ के तुम लोग इन्ही को बिहारी के नाम पर वोट करके MLA बनाते हो| ये यहाँ MLA बनकर खूब पैसा कमाते हैं और अपने बच्चो को पढने के लिए विदेश भेजते हैं| मैंने कहा ये लोग दिल्ली /बिहार में छेत्रवाद की राजनीति करते है| मुंबई में इन्हीं लोगों ने तुम्हारे पीछे राज ठाकरे नामक गुंडा इस काम के लिए छोड़ रखा है| उलटे-सीधे काम ये करते हैं और बाद में पिटते तुम हो| अगर ये लोग मुंबई में भी जातपात/क्षेत्रवाद की राजनीति न करे तो राज ठाकरे को मौका न मिले ये सब करने का| बोले कि हमने तो आज तक ये सोचा ही नहीं| मैंने कहा ये बिहारी, पंजाबी, गुजराती आदि-आदि सब झूठ है| सचाई सिर्फ तुम्हारी जाति है| बाकी सब झूठ है| सच सिर्फ इतना है कि तुम सिर्फ दलित हो, OBC हो| बाकी ये सब बिहारी, बंगाली, पंजाबी वर्ड का इस्तेमाल शातिर जातीय लोग धडल्ले से करते हैं| एक दलित चाहे वो बिहारी हो या बंगाली पूरे देश में दलित ही होता है| मैंने कहा इन् लोगो ने दिल्ली /मुंबई में पूर्वांचल प्रकोष्ठ बना रखे है | पुवांचल सभाए बना रखी है | इनका मकसद सिर्फ पोलिटिकल होता है| ये पूर्वांचल के नाम पर पोलिटिकल पार्टियों से टिकेट लेते हैं और MLA/MP बन जाते है| तुम्हें रोजगार तो स्थानीय हरयाणवी या दिल्ली वाले से मिलता है ना? बोले कि अधिकतर| तो बताओ या तुम्हारे किस काम आ रहे हैं? सब सोचने की मुद्रा में आ गए| दिल्ली में 1996 से एक MP बनता है आ रहा है | सबसे पहले तिवारी बना, फिर मिश्रा बना और अब फिर से तिवारी बना| ये तुम्हारी कास्ट को टिकट क्यों नहीं देते हैं? या सिर्फ तुम लोग खाली वोट करने के लिए बने हो? इन्होनें तुम्हें मारने के लिए बिहार में सेनाएं बना रखी हैं| और फिर दिल्ली में आकर तुम इन्हीं के लिए वोट करते हो?

दोस्त का बताया किस्सा समाप्त|

तो यही किस्सा अश्वनी चोपड़ा जैसे लोगों का है| आरएसएस के इन शियारों द्वारा फैलाये जा रहे जातिवाद से आम अरोड़ा/खत्री को क्या मिलता है?

अब अरोड़ा/खत्री समुदाय को एक सन्देश के साथ निचोड़ की बात:

क्योंकि पंजाब, हरयाणा , वेस्ट यूपी, दिल्ली में जाटू-सभ्यता के चलते मनुवाद कभी भी ज्यादा प्रभावशाली नहीं रहा और आरएसएस के मनुवादी लोग इस बात को अच्छे से जानते हैं| इसीलिए इन्होनें रामबिलास शर्मा जैसे नंबर वन सीएम पद के दावेदार होते हुए भी एक खत्री को हरयाणा का CM बनया है| क्योंकि मनुवादी हरयाणा के ब्राह्मण को सबसे नीचे दर्जे का ब्राह्मण मानता है, इसलिए उन पर विश्वास नहीं करता कि एक हरयाणवी ब्राह्मण इनके समाज को जातिवाद व् वर्णवाद में तोड़ने के एजेंडा को अच्छे से लागू कर पायेगा कि नहीं| अत: यह एक सोशल एक्सपेरिमेंट है| अगर जाटलैंड में रिएक्शन होगा तो मनुवादी सेफ रहेंगे| इस आग में लपेटे जायेंगे अरोड़ा/खत्री, ठीक वैसे ही जैसे पंजाब में लपेटे गए थे; वहाँ से पंजाबियों द्वारा ही खदेड़े गए यह मेरे वीर हरयाणा में शरण लिए थे| शायद वो अरोड़ा/खत्री जिनको ये पता भी नहीं होगा कि उन्हीं के लोग उनको राजनीती की भेट चढ़ाना चाहते हैं| इसके पीछे आरएसएस की सोची समझी रणनीति है, जो पंजाब के बाद अब दोबारा से हरयाणा में प्रयोग कर रही है और यह बड़े चाव से हो भी रहे हैं|

इसलिए बीजेपी/आरएसएस बार-बार जाटों को उग्र करने की कोशिश करता रहता है, ताकि जाट रियेक्ट करें| इसीलिए लिए ऐसे ब्यान जान-बूझकर और सोच समज कर दिलवाए जा रहे हैं|

चलते-चलते: मैं नहीं मानता कि अरोड़ा/खत्री समुदाय इन सब बातों को समझता नहीं होगा, वो मजाकिया जरूर होते हैं, परन्तु ऐसे अंधे कभी नहीं कि अश्वनी चोपड़ा जैसों के हाथों अपने समाज को गैरों के हितों के लिए प्रयोग होने देवें| साथ ही दो साल से जाटों द्वारा अभी तक जो संयम बरता गया है, इसको आगे भी जारी रखें; क्योंकि इस हरयाणा को हरा-भरा समतल व् इस लायक कि यहां मुनवाद से पीड़ित दूसरे राज्यों के दलित-ओबीसी भी ट्रेनें भर-भर रोजगार करने आते हैं; किसी ने बनाया है तो वो सबसे ज्यादा आपके पुरखों ने स्थानीय दलित-ओबीसी के साथ मिलके बनाया है| अत: आपकी जिम्मेदारी सबसे ज्यादा बनती है, अपनी "दूध-दही की संस्कृति में डूबे भाईचारे" को किसी की नजर न लगने देने से बचाने की|

जय यौद्धेय! - फूल मलिक

"ब्लाउज-पेटीकोट" भारतीय साड़ी पहनावे का हिस्सा नहीं, अपितु ब्रिटिशर्स से इस ड्रेस में लिया गया है!

ठीक वैसे ही जैसे चड्ढीधारियों (ताज़ा-ताजा बने पैंटधारी) का टोपी-शर्ट-चड्ढी (पेंट)-जूते-जुराब कुछ भी भारतीय नहीं परन्तु फिर भी चौड़े हो के खुद को राष्ट्रभक्त कहते नहीं कुढ़ियाते|

वैसे बिना ब्लाउज-पेटीकोट की साड़ी दक्षिण-पूर्वी व् मध्य भारतीय पहनावा है; उत्तर-पश्चिम भारत खासकर पंजाब -हरयाणा में कुरता-दामण व् सलवार-सूट पहनावा रहा है|

तो हुआ यूँ कि गुरु रविन्द्र नाथ टैगोर के भाई सत्येंद्र नाथ की बीवी बिना ब्लाउज-कोटीपेट के, स्तनों पर सिर्फ साड़ी का पल्लू ढाँप के कलकत्ता के ब्रिटिश क्लबस में एंट्री पे रोक दी गई| तब गुरु रवीन्द्रनाथ ने कहा कि अब नंगी छाती और नंगी पीठ के पहनावे नहीं चलेंगे और साड़ी के नीचे ब्रिटिशर्स की शर्ट, टी-शर्ट की भांति ब्लाउज और पेटीकोट पहनो| और तब से ऐसे शुरुवात हुई दक्षिण-पूर्वी व् मध्य भारतीय समाज में साड़ी के नीचे ब्लाउज व् पेटीकोट पहनने की|

तो जो औरतें या मर्द महानुभाव 'आज की साड़ी ड्रेस' को शत-प्रतिशत शुद्ध भारतीय पहनावा मानके इनको पहनती हैं, वह जानें कि इसमें सिर्फ साड़ी आपकी संस्कृति की है, ब्लाउज और पेटीकोट ब्रिटिशर्स के हैं|

जय यौद्धेय! - फूल मलिक

"खेड़े के गौत" की लिंग-समानता की थ्योरी, जाटू-सभ्यता को "समगौत भाईचारे" की थ्योरी से भी ऊपर ले जा के बैठाती है!

आजतक यूरोप-इंग्लैंड-फ्रांस-भारत-मिडिल-ईस्ट, यहां तक कि अमेरिका-कनाडा-ऑस्ट्रेलिया तक की भी; गौत यानी गोत्र यानि उपनाम के प्रयोग बारे जितने भी सिद्धांत व् चलन जानने में मिले, 'जाटू-सभ्यता' के 'खेड़े के गौत' वाली लिंग-समानता की परिपाटी किसी में नहीं दिखी| नहीं दिखी, विश्व की किसी भी अन्य सभ्यता में यह सभ्यता जो औलाद का गौत सिर्फ पिता के गौत के आधार पर ही नहीं वरन माता के गौत के आधार पर भी रखने का निर्बाध-निर्विरोध-सर्वमान्य विकल्प देती हो|

क्या कभी सुना है कि फलाने का उपनाम (गौत, गोत्र) उसके पिता की बजाये उसकी माता के उपनाम पर है?
"जाटू-सभ्यता" में यह कांसेप्ट है, यह खुलापन है जहां औलादों के गौत पिता के गौत के साथ माता के गौत के आधार पर भी जाने जाते हैं| और यह मानवीय-मूल्यों और संस्कारों की पराकाष्ठा की अनुभूति "जाटू-सभ्यता" का "खेड़े के गौत" का कांसेप्ट देता है|

"खेड़े के गौत" का कांसेप्ट कुछ समान्तर सम्भावनाओं के साथ मूलतः इस सिद्धान्त पर बना हुआ है कि गाँव में गांव के बेटे की औलाद बसे या बेटी की, दोनों सूरतों में उनकी औलादों का उपनाम "खेड़े का गौत" चुनना सर्वोत्तम रहता है| गाँव की बहु व् गाँव के जमाई का गौत पीछे छूट जाते हैं या कहें कि द्वितीय हो जाते हैं|

ग्रेटर हरयाणा व् पंजाब (जाटू सभ्यता बाहुल्य इलाके) के लगभग हर गाँव-नगरी में 2-4 से ले 10-20-50 तक ऐसे घर मिलते हैं जिनको "धाणी की औलाद" (पंजाब-हरयाणा के बॉर्डर के साथ लगते एरिया में), "ध्याणी की औलाद" (जींद-हिसार-भिवानी क्षेत्रों में), "देहल की औलाद" (रोहतक-सोनीपत-झज्जर-दिल्ली क्षेत्रों में), "बेटी की औलाद" (पश्चिमी यूपी क्षेत्रों में) इत्यादि बोला जाता है|

मेरी (लेखक की) जन्म नगरी निडाना, जिला जींद, हरयाणा में करीब 40 घर ऐसे हैं जो "ध्याणी की औलाद" कहलाते हैं| यानि 3-4 पीढ़ी पहले हमारी कोई बुआ अपने पीहर यानी हमारे गाँव में बस गई थी, और तब से उस बुआ की औलादों का गौत "मलिक" यानी "निडाना के खेड़े" का गौत बजता है, फूफा का गौत पीछे छूट गया था| और यह कांसेप्ट क्या जाट, क्या धानक, क्या चमार; गाँव की हर जाति अनुसरण करती है|

तो जब कभी आपको "समगौत" जैसे मुद्दों पर किसी ऐसे बजरबटटु से जिरह करनी पड़ जाए जो आपकी संस्कृति को तुच्छ दिखाने की कुचेष्टा रखता हो, तो उसके साथ डिफेंडिंग मोड में ना आवें; अपितु इस खुली मानवता के पहलु के साथ उसको "समगौत" से भी आगे "खेड़े के गौत" तक ला के समझावें और बतावें कि कैसे पूरे विश्व में इकलौती सिर्फ जाटू-सभ्यता है जिसमें औलाद का उपनाम उसकी माँ का उपनाम भी हो सकता है| और लगे हाथों उससे यह प्रश्न भी दाग दें, कि बता तेरे यहां क्या फंडा है इस पहलु पर?

हमारे पुरखे इंग्लैंड की आदतों के रहे हैं, जैसे उन्होंने कभी अपना सविंधान, मान-मान्यताएं नहीं लिखी ऐसे ही जाटों ने नहीं लिखी| और जो हिन्दू धर्म के शास्त्र-ग्रन्थों के लेखक है वो तो आजतक भी "जाटू-सभ्यता" को "एंटी-ब्राह्मण" बोलते आये हैं, तो इसलिए इन्होनें भी इनकी डॉक्यूमेंटेशन पर विशेष ध्यान नहीं दिया| परन्तु अब जिस वाहियात व् कबीलाई तरीके से जाट-खाप-हरयाणा के पीछे यह लोग पड़े रहते हैं, ऐसे माहौल में इनको समझाने व् दिखाने हेतु, यह चीजें लिखित रूप में उतारनी जरूरी हो गई हैं| वर्ना यूँ ही चलता रहा तो बहुत जल्द ही यह लोग औरों की तो छोडो खुद जाटों के बीच से ही "जाटू सभ्यता" को समेट देंगे|

जय यौद्धेय! - फूल मलिक

पश्चिमी यूपी + उत्तराखंड यानि पूर्वी हरयाणा में यह साड़ी पहनने का रिवाज कब से, कहाँ से और क्यों आया?

यह दुर्लभ चित्र देखिये, दोनों पुण्यात्माएँ पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह के आदरणीय माता-पिता हैं| इसमें दादी जी का घाघरा इतना घुंघराला है कि पश्चिमी हरयाणा के घाघरे की बनवाट से मेल खाता है|

तो इसको देखते ही अचानक विचार आया कि तो आज के दिन जो पूर्वी हरयाणा की औरतें साड़ी या कुरता व् स्कर्ट जितने कपड़े का नीचे तक का जो स्कर्ट पहनती हैं यह कब से, कहाँ से और क्यों आया?

सनद रहे 1857 से पहले पूर्वी हरयाणा, पश्चिमी हरयाणा और सेंट्रल हरयाणा सब एक मिला के ग्रेटर हरयाणा होते थे और पूरे इलाके की "सर्वखाप हरयाणा" होती आई जो कि आज भी है और जिसका मुख्यालय सोरम में है|

इस हिसाब से मोटा-मोटा अंदाज लगाऊं तो क्या बीसवीं सदी की शुरुवात तक पूर्वी व् पश्चिमी यानी यमुना के आर और पार के दोनों तरफ के हरयाणा की औरतों की वेशभूषा एक जैसी होती थी और इसमें फर्क तब से पड़ा जब से पूर्वी हरयाणा को अवध यानी यूपी में मिला दिया गया?

जय यौद्धेय! - फूल मलिक

Photo Courtesy: Ch. Jasbir Singh Malik

Comments Received:

1) Dharmvir Padha हरियाणा और पश्चिमी हरियाणा यानि सम्पूर्ण हरियाणा की वेष भूसा एक समान थी । हमारे यहां सूट सलवार का चलन तो अब 1970 के बाद से पंजाबी कल्चर के कारण आया । अंतर केवल घाघरे के भारी और हल्के का था । यमुना पार हल्का घाघरा था यहंा भारी का रीवाज था । उसको बावन गज तक का बनवा लिया था । उसके ऊपर ओढना था जो घुटने से लेकर सिर तक ढकता था ।
कमोबेश साड़ी का भी तरीका वही है । उसमे पेटीकोट कहा जाता है जो हलका घाघरा होता है और ओढ़ना बड़ा हो जाता है जो साड़ी कहलाता है ।

2)  Satish Kaler Saree with Petikot (skirt) and blouse was a brainchild of a British woman, before that Saree was draped without petikot n blouse.- http://www.bbc.com/news/magazine-30330693
3) Vishal Jat Salkalan Ye sahi बात है ।
पश्चिम यूपी का east व् मिडिल यूपी के साथ मिला होना इसकी कल्चर को काफी प्रभावित क्र रहा है।

4) Adarsh Singh Trar भाई अभी बात करके मालूम चला
मेरी दादी भी घाघरा पहनती थी पर हमने कभी देखी नही क्योकि जब तक हम हुए तब तक साडी पहनने लगी थी
घाघरे के साथ दिक्कत यह थी कि वो भारी होते थे , उन्हे धोने मे भी दिक्कत थी तथा काम करने मे comfortable नही होते थे इसलिए घाघरो के गज
कम होते चले गए ।
तो हरियाणा जो कि पंजाब के संपर्क मे था यहां पंजाब का कल्चर अपनाया गया
दुसरा यह कि हरियाणा मे महिलाए खेत मे ज्यादा काम करती थी और पश्चिम युपी मे महिलाए खेत मे काम कम करती है
इसलिए हरियाणा मे सूट पर जोर रहा क्यो सूट साडी से ज्यादा comfortable था
और पश्चिम यूपी ने पूर्व के पहनावे को अपनाया जबकि हरयाणा ने पंजाब के ।

5) कुँवर विजयन्त सिंह बैनिवाल मेरी दादी जी जीवन के अंतिम क्षणों तक कुर्ता घाघरा पहनती थी।
घाघरे का दूसरा रूप गरारा भी है, घाघरे मे कपडा ज्यादा लगता था, गरारे में थोडा कम
 
 


 

Monday, October 24, 2016

क्या कोई खाप चौधरी भी "राय बहादुर" हो सकता है?

 जी हो सकता है, गठवाला खाप चौधरी राय बहादुर दादा घासीराम जी मलिक थे "राय-बहादुर"| आज अपने ही होने का दम भरने वालों के राज में ना सही, परन्तु अंग्रेजों के युग में थे| यह अपनेपन का दम भरने वाले तो खापों को लेकर यूँ बेचैन दीखते हैं कि जैसे इनका बस चले तो आज ही खाप को मिटा दें जहाँ से|

According to special War Front Efforts issue of the Jat Gazette of 20 December 1944:

1) Dada Chaudhary Ghasi Ram (Malik), Ahulana whose caption bore the following words: "Rai Bahadur Chaudhry Ghasi Ram, Tahsil Leader, National War Front, Gohana"

2) a 'Message' by J.C.W Eustance Esqr. KS, then Provincial Lt. Governor the Punjab who was also provincial organizer, NWF, Punjab (see the attachment, though a bad copy)

Keep looking and reading such records, otherwise you may neer come to know that a Khap Chaudhary may also be entitled as 'Rai Bahadur' which the historical literature of India never tagged anywhere.

Jai Yauddhey! - Phool Malik


Sunday, October 23, 2016

करनाल सांसद अश्विनी चोपड़ा पर छपी इन दो खबरों का पंक्ति-दर-पंक्ति पोस्टमॉर्टेम!

पंक्ति 1) - किसी भी वर्ग को आरक्षण मांग कर नहीं बल्कि काम करके आगे बढ़ना चाहिए!

पोस्टमॉर्टेम: हरयाणा में EWSR (Economic Weaker Section Reservation) के तहत जो 10% आरक्षण है उसमें आपका वर्ग आरक्षण का लाभ ले रहा है, महाशय? और यह आरक्षण आप लोगों ने मांग के ही लिया था, यह भी भूल गए हो तो जब यह आरक्षण मिला था, उस वक्त आपके वर्ग ने इसके लिए कितनी सभाएं कर-कर विज्ञप्ति पत्र दिए थे, उनकी मीडिया रिपोर्ट्स निकाल लो नजरों के आगे से| मतलब दुनिया को अँधा ही समझ बैठे हो क्या?

पंक्ति 2) पंजाबियों ने पाक से आकर मेहनत के बूते पर समाज में जगह बनाई!

पोस्टमॉर्टेम: जनाब खुद कह रहे हैं कि यह पाकिस्तान मूल के हैं; तो भाई यही बात कमांडेंट हवा सिंह सांगवान जी ने कह दी थी, तो बड़ी मिर्ची लग गई थी? पूरे हरयाणा में सांगवान साहब के पुतले फुंकवा दिए थे, कि क्यों-क्यों हमें "पाकिस्तानी मूल का" कहा ही क्यों?

अमां यार, बाकी तो छोड़ो; यह बताओ भारतीय बैंकों का जो 20 करोड़ से ज्यादा रुपया और पंजाब केसरी अखबार की दिल्ली ऑफिस के लिए जो सैंकड़ों करोड़ों की जमीन जब्त किये बैठे हो; यह सारा पैसा कब लौटा रहे हो बैंको और सरकार को? बता, लूट-खसोट के खाने वाला, मेहनत के दम भी भरता है| मत भरो ऐसे दम वर्ना लोग लूट-खसोट को ही मेहनत समझ बैठेंगे|

पंक्ति 3) पंजाबी समाज ने कभी आरक्षण की मांग नहीं की|

पोस्टमॉर्टेम: जवाब बिंदु एक में दिया जा चुका|

पंक्ति 4) सीएम को करनाल से जिताकर, पहली बार प्रदेश में पंजाबियों का राज आया है?

पोस्टमॉर्टेम: जनाब पंजाबियों का राज गया कब था हरयाणा से, जो पहली बार आया है बता रहे हो? 1966 से पहले हरयाणा पंजाब का पार्ट था, इस नाते हर हरयाणवी आधा पंजाबी तो बाई-डिफ़ॉल्ट है, पंजाब का छोटा भाई कहलाता है?

मैंने तो सुना था कि "हरयाणा एक, हरयाणवी एक" वालों का राज आया है? महाशय , पहले बयानों में तो एकता कर लो, समाज की एकता की शेखी तो बाद में बघारना| सीएम खट्टर "हरयाणा एक, हरयाणवी एक" का नारा देते हैं और महाशय इसको पंजाबी राज बताते हैं? कहीं नीचे-ही-नीचे अपने ही बिरादरी भाई की कुर्सी छीनने की लालसा तो हिलोरे नी मार रही, महाशय?

वैसे पंजाबी शब्द से आपको बड़ा लगाव लगता है? मेरे जैसा तो इस शब्द पे अभिमान करे 100 बार करे, आप किस मुंह से इस पर अभिमान की बात करते हो? पंजाब ने आपके पिता जगतनारायण को गोलियों से भून दिया था, आपको अपने इसी पंजाबी प्रेम के चलते पंजाब छोड़ हरयाणा में शरण लेनी पड़ी थी, जब पंजाब में होते थे तो वहाँ हिंदी आंदोलन चलाते थे; तो महाशय प्रैक्टिकल ग्राउंड तो कहीं नहीं दीखता आपमें पंजाबियत और पंजाबी होने का?

पंक्ति 5) मैं सप्ताह में एक दिन पंजाबी समाज को जागरूक जरूर करूँगा?

पोस्टमॉर्टेम: महाशय, मेरी परिभाषा वाले बाई-डिफ़ॉल्ट पंजाबी समाज को या अपने बिरादरी वाले समाज को? अगर मेरी परिभाषा वाले को जागरूक करना चाहते तो आपका हार्दिक स्वागत है; वर्ना इतना याद रखें कि आपमें समाज को जागरूक करने का नहीं अपितु तोड़ने-फोड़ने का डीएनए है, ठीक अपने पिता की भांति| जिस थाली में खाते हो, उसी में छेद करने का डीएनए है, आपके पिता की भांति (यह पंक्ति सिर्फ चोपड़ा परिवार के लिए है, पूरा अरोड़ा/खत्री समाज इसको अपने ऊपर न लेवें)

पंक्ति 6) हरयाणा में जाट 30 तो पंजाबी 28 फीसद हैं|

पोस्टमॉर्टेम: महाशय, सितम्बर 2012 की श्री के. सी. गुप्ता आयोग की आधिकारिक रिपोर्ट कहती है कि हरयाणा में जाट 32.03 फीसद और पंजाबी (अरोड़ा/खत्री) सिर्फ 6.40% है| आपके इस पंजाबी शब्द के गेम की सच्चाई भी उतनी ही खोखली है जितनी कि आपके 35 बनाम 1 बिरादरी वाले नारे की| अच्छे से समझता हूँ कि आप इस शब्द में हरयाणा की सिख कम्युनिटी को भी साथ रखना चाहते हो; परन्तु एक बात अच्छे से जान लो, सिख कम्युनिटी यूँ पंजाबी-पंजाबी कह देने मात्र से आपके साथ आती तो पंजाब के सिख आपको पंजाब से इतनी तबियत से नहीं खदेड़ते कि आपको हरयाणा में शरण लेनी पड़ती|

पंक्ति 7) मांग कर नहीं, काम करके बनाएं पहचान!

पोस्टमॉर्टेम: महाशय, क्या आजतक ब्राह्मणों से खुद को किसी भी किताब के छोटे-मोटे कोने पे भी "अरोड़ा जी", "खत्री जी" या "पंजाबी जी" लिखवा पाए हो; हम जाट लिखवा पाए हैं| सन 1875 में तब की बम्बई और आज की मुम्बई में 96 उच्च-कोटि ब्राह्मणों की सभा हुई थी, जिसमें जाट समाज की स्तुति का कार्य ऋषि दयानंद को दिया गया था (इसके पीछे की वजहें मेरे पीछे के लेखों में कई बार जिक्र में आ चुकी हैं)| तो पढ़ लो उठा के सत्यार्थ प्रकाश, उसमें ब्राह्मणों ने जाट को "जाट जी" भी लिखा है और "जाट देवता" भी| तो ऐसा है जिस दिन यह लिखवाने की औकात बना लो अपनी, उस दिन बात करना पहचान की|

अब एक सन्देश अंधभक्त बने हरियाणवियों के नाम; सन्देश के टाइटल दो हैं:
1) अधिनायकवाद के साइड इफेक्ट्स|
2) मोटा-पेट बकाल, मुस्से बरगी खाल|

मतलब, मोदी की हवा के चलते एमएलए/एमपी और यहां तक कि मुख्यमंत्री बने लोगों को बहम नहीं पालने चाहियें; यह बात मनोहर लाल खट्टर, अश्वनी चोपड़ा व् राजकुमार सैनी पर बराबरी से लागू होती है| अलग-अलग तो दूर आप तीनों इकठ्ठे होकर भी हरयाणा में अपने में से एक को सीएम कैंडिडेट डिक्लेअर करके चुनाव लड़ के देख लो, दहाई का आंकड़ा पार करने जितनी सीट लाने के लाले पड़ जायेंगे|

यही तो अधिनायकवाद की अंध्भक्ति में बावले हुए लोगों को समझना चाहिए कि अंधभक्ति में आपको ऐसे अलोकतांत्रिक, कटुता और विखण्डन की जहरी मति के लोग झेलने पड़ जाते हैं, जिनकी निजी लोकतांत्रिकता शून्य होती है|

महाशय अश्वनी चोपड़ा का डीएनए तो पिछली पीढ़ियों से ही खराब है; महाशय के पिता श्री के सर पर ही तो पंजाब को आतंकवाद में झोंकने का ताज है| सो इनको सीरियसली लेने की जरूरत नहीं| बस अपने आपको सर छोटूराम बनाने की ओर अग्रसर रखो, ऐसे-ऐसे हजारों-लाखों पर एक छोटूराम भारी रहा है और रहेगा| इनको आज भी सर छोटूराम के सपने आते हैं तो ऐसे तड़प के उठते हैं जैसे कोई भूत देख लिया हो|

दूसरी, बात क्योंकि इन महाशय के परिवार का पंजाब में आतंकवाद परोसने का इतिहास रहा है, इसलिए भूल के भी कोई हरयाणवी इनकी बातों से भड़के नहीं, बल्कि याद रखे, "मोटा-पेट बकाल, मुस्से बरगी खाल" यानि जैसे चूहे को खरोंच मात्र लगने से वो प्राण त्याग देता है, इतना भर जाथर है इनका| इसलिए इनको जवाब देने के लिए आपके शब्द ही काफी हैं|

आपकी कलम काफी है| यह लोग तलवार से नहीं, कलम से मार खाते हैं; इसलिए अपनी लेखनी में धार लाओ और सोशल मीडिया के जरिये छा जाओ; परन्तु ध्यान रहे लेखनी में सविंधान की मर्यादा निभाई जाए| बस शब्दों के बदले शब्दों की बौछार कुंध मत होने देना, यह तो ऐसे गायब होंगे; जैसे गधे के सर से सींग|

Note: I won't mind if anyone of you could forward it to the person in context here.

जय यौद्धेय! - फूल मलिक

अगर बिना पावर हाथ में हुए सावरकर-गोडसे-मुखर्जी को आदर्श बताओगे तो आतंकवादी कहलाओगे, बैन हो जाओगो!

यूनियनिस्ट मिशन की दिशा-दशा बारे कई बार पब्लिक प्लेटफार्म पर भी बातें करने का मन करता है| हालाँकि मिशन की कोर-टीम में तो अक्सर चर्चाएं चलती ही रहती है| आज एक ऐसी चर्चा और दिशा का सुझाव सबके सामने ला रहा हूँ, जो इस घोर जातिवाद हो चले सरकारी-सामाजिक माहौल में कैडर को "फ़ूड फॉर थॉट" का काम करेगा|

गोडसे ने गाँधी को गोली मारी, आरएसएस बैन हुई| 1950 से ले के 1984 तक बैन रही| जब तक 2014 वाली बीजेपी की पूर्ण बहुमत की सरकार नहीं आई, बीजेपी ने गोडसे को छुआ भी नहीं; क्योंकि गोडसे की पब्लिक छवि एक आतंकवादी की रही| परन्तु सत्ता और पावर वो करिश्मा है जो कल तक आतंकवादी कह जाने वाले को आज आदर्शपुरुष बना कर पेश करे तो बड़े-बड़ों के मुंह पर ताले लग जाएँ|

यही कहानी मुस्लिम लीग के साथ मिलकर सिंध में सरकार बनाने वाले सावरकर की रही और यही कहानी कश्मीर में लाल चौक पर श्यामाप्रसाद मुखर्जी का कत्ल होने की रही| परन्तु लोक-आलोचना के चलते आरएसएस/बीजेपी ने इनको पब्लिक में नहीं उठाया और ना ही इन तीनों को भूली; बल्कि सीने में इनके प्रति अपने प्यार को दबाये तब तक चलती रही जब तक पूर्ण बहुमत की सत्ता इनके हाथ में नहीं आई|

इसलिए किसी का इन उदाहरणों जैसे किसी व्यक्तित्व से लगाव है तो उस लगाव को सीने में दबा के रखे, और
पहले सत्ता, सांस्कृतिक और सामाजिक हालात बदलने पर कार्यरत रहे|

ज्यादा बेचैनी व् निराशा घेरे तो "खुदी को कर बुलन्द इतना, कि हर तबदीर से पहले खुदा बन्दे से खुद पूछे कि बता तेरी रजा क्या है।" की ध्यान-केंद्रित करने की राह पर निकल जावें; हल जरूर मिलेगा।

 जय यौद्धेय! - फूल मलिक

मेरी राह सिर्फ यह है, "खुदी को कर बुलन्द इतना, कि हर तबदीर से पहले खुदा बन्दे से खुद पूछे कि बता तेरी रजा क्या है।"

 जिस यूनियनिस्ट मिशन से मैं जुड़ा हूँ उसकी आइडियोलॉजी लोकतान्त्रिक गणतन्त्र की विचारधारा की उस धुर्री के इर्द-गिर्द चलती है जिसके जनक सर छोटूराम जी हैं; जो कि सम्पूर्णतः सवैंधानिक व् अकाट्य रूप से व्यवहारिक रही है।

हमारा उद्देश्य भी क्लियर-कट है:
१) समाज से ढोंग-पाखंड-आडम्बर करने वाले फंडी और सूदखोरी करने वाले मंडियों में बैठे मंडी का विरोध करना, उनके विरुद्ध समाज को जगाना,
२) मंडी-फंडी कैसे किसान-दलित-पिछड़े की हक़-हलूल की कमाई और सामाजिक हक मारते हैं इस पर अलख जगाना।
३) समाज से जातिवाद-वर्णवाद के तिलिस्म को तोड़ना और एक गणतांत्रिक पथ की ओर अग्रसर होना।
४) अपने घरों, पासपड़ोस व् रिश्तेदारियों को शुद्ध "दादा खेड़ा सभ्यता" बारे बताना और उसकी तरफ मोड़ना।
५) लोगों को हरयाणा-हरयाणवी-हरयाणत पर जगाते हुए समस्त "ग्रेटर-हरयाणा" में इसकी अलख जगाना।

इसमें विरोध-अवरोध का पैमाना और तरीका भी तय है, और वह वही है जो सर छोटूराम अपनाते थे और कहते थे कि "खुदी को कर बुलन्द इतना, कि हर तबदीर से पहले खुदा बन्दे से खुद पूछे कि बता तेरी रजा क्या है।"
जो, खुदा आपकी रजा पूछे तक अपनी खुदी को बुलन्द करना चाहता हो, मैं हर उस सख्स से जुड़ा रहना चाहूंगा। लेकिन अगर अपने अंदर के आक्रोश को उससे बचने का विकल्प होते हुए भी गुस्से में परिवर्तित होने देंगे तो मेरा ऐसा मानना है कि वह पथ उस व्यक्ति का व्यक्तिगत पथ माना जाए, उसे सब युनियनिस्टों से जोड़ के ना देखा जाए। और ऐसा दिखाने वाला आपका ज्यादा ही नजदीकी व् मान्य हो तो उस मान्यवर से जिरह करके उनके विचार को दुरुस्त किया जाए।

सर छोटूराम जी के इर्द-गिर्द जिसको मैं फॉलो करता हूँ वो हैं महाराजा सूरजमल, सरदार भगत सिंह, सर सिकन्दर हयात खान, सर मग्गूवाला, सर फज़ले हुसैन, सरदार प्रताप सिंह कैरों, चौधरी चरण सिंह, ताऊ देवीलाल, चौधरी बंसीलाल, बाबा महेंद्र सिंह टिकैत व् डॉक्टर भीमराव आंबेडकर (इनमें उनका जिक्र नहीं, जो आज के दिन जीवित हैं)।

मैं विदेश में बैठ कर भी, अपनी सभ्यता-संस्कृति, किसान-दलित-पिछड़ा के आर्थिक व् सामाजिक हितों बारे कार्य करना चाहता हूँ, इसलिए मिशन से इसकी "फाउंडेशन की तारीख" से जुड़ा हूँ; परन्तु निसन्देह वैमनस्य फैलाने वाले विचारों से मैं अपने आपको अलग रखता हूँ।

उद्घोषणा: यह मेरे व्यक्तिगत विचार हैं परन्तु हाँ उन फेलो-साथियों के लिए एक सन्देश व् निर्देश भी हैं जो मेरी लेखनी व् विचारधारा में आस्था रखते हैं। इसलिए आप सबसे अनुरोध है कि आज के इस घोर जातिवाद माहौल में अपनी लेखनी से, विचार-कर्म से कुछ भी ऐसा ना होने देवें (प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप दोनों से) जो सविंधान संगत ना हो। ज्यादा बेचैनी व् निराश होवे तो "खुदी को कर बुलन्द इतना, कि हर तबदीर से पहले खुदा बन्दे से खुद पूछे कि बता तेरी रजा क्या है।" की ध्यान-केंद्रित करने की राह पर निकल जावें; हल जरूर मिलेगा।

 जय यौद्धेय! - फूल मलिक

जुबान पे कायम उसके साथ रहा जाता है जो जुबान की कीमत जानता हो!


1) "ठाकुर, की जुबान पर विश्वास रखो!" - राजनाथ सिंह, फरवरी जाट आंदोलन में "जाट आरक्षण की घोषणा का पीएमओ से नोटिफिकेशन" तुरन्त जारी करवाने हेतु जाटों द्वारा कहने पे|
2) "रघुकुल रीत सदा चली आई, प्राण जाए पर वचन ना जाई" - रामायण (माइथोलॉजी), गर्भवती पत्नी को एक धोबी के कहने पर जंगल छुड़वाते वक्त, फेरों के वक्त दिए सात वचन एक झटके में तोड़े|
3) "प्राण जाए पर वचन ना जाए", "मर्द की जुबान" आदि-आदि - बॉलीवुड की ठाकुरों पर बनी फिल्मों में, ठाकुरों को जुबान नाम के वशीकरण जाल से बंधते हुए तो खूब देखा होगा|
4) जुमलेबाजों का तो रिकॉर्ड ही रखना भूल गया हूँ|

एक और ख़ास बात देख लेना, यह जुबान देने और जिसको दी है वो देने और उसके साथ जुबान निभाने लायक भी है या नहीं; यह सोचे-समझे बिना इसपे बौरा के मरने का शौक भी सबसे ज्यादा राजपूत-ठाकुर-जाट टाइप लोगों ज्यादा रहता है|

और क्या कहूँ, बस यही कहना है अपनी जुबान पे कायम रहो, परन्तु उसके साथ जो इसके लायक हो|
वर्ना बिना देखे-सोचे समझे जुबान देने वाला
1) माइथोलॉजी वाला हरिश्चंद्र बाद में अपनी पत्नी-बच्चों समेत काशी के घाटों पर बिकता हमने सुना है|
2) दूसरा माइथोलॉजी वाला राजा बलि, वामन अवतार को तीन-पग धरती नपवा के खुद, धूल फाख्ता हमने सुना है|
3) तीसरा माइथोलॉजी वाले राम और युद्धिष्ठर, सात फेरों के वचन दे के ब्याह के लाई अपनी पत्नियों को एक जंगल में छुड़वाता और दूसरा जुए में दांव पर लगाता हमने पढ़ा है|
4) चौथा महाभारत के युद्ध में, अस्त्र ना उठाने का वचन दे, जुबान को अस्त्र की तरह प्रयोग करता कृष्ण हमने सुना है|
अब कुछ उदाहरण वास्तविकता से:
5) अंतिम हिन्दू सम्राट कहलाने वाला पृथ्वी चौहान, अपने ही हिन्दू धर्म की मान-मान्यताओं को निभाने के वचन भरने के बाद भी कामांध हो अपनी ही भतीजी संयोगिता को भगाता हमने पढ़ा है|
6) महाराजा सूरजमल को पानीपत की तीसरी लड़ाई में जाट-पेशवा युद्ध-गठबंधन अलायन्स बनाने के वचन के बहाने, उनको बन्दी बनाने की चाल चलता पुनाई पेशवा हमने पढ़ा है|
7) सत्य-अहिंसा परमोधर्म: के वचन कहने वाला गाँधी, भगत सिंह को फांसी देने के कागजों पर दस्तखत करते हमने देखा है|
8) अंग्रेजों का विरोध करने वाले सावरकर और अटल बिहारी, अंग्रेजों को ही 6-6 माफीनामे लिखते हमने देखे हैं|
9) जुमलावतार के जुमलों की जुमलाई के जुल्मों का दौर पास से गुजरते हम देख रहे हैं|

और कुछ बावली तरेड़ टाइप "जुबान के पक्के" जुबान से कुल्ला-दातुन करते दुनिया की दीवारों को कुल्लों के पानी से गन्दा करते रोज-रोज सोशल मीडिया पर ढींगे हांकते मिलते ही रहते हैं| इनको अहसास भी नहीं होता कि जिस जुबान की तुम हंगाई मार रहे हो, यह जुबान नहीं अपितु तुम्हारा खुद से अनियंत्रित जोश है; वर्ना ऐसे जुबान के पक्के और जुबान के पक्कों का साथ देने वाले होते तो, अब तक अंध्भक्ति से बाहर आ चुके होते|

 जय यौद्धेय! - फूल मलिक

Wednesday, October 19, 2016

A New Zealander's view on reason for corruption in India!

Hard hitting article but sadly true: The following message from New Zealand is forwarded as received. *Makes interesting reading*

Indians are Hobbesian (Culture of self interest)
Corruption in India is a cultural aspect. Indians seem to think nothing peculiar about corruption. It is everywhere.
Indians tolerate corrupt individuals rather than correct them.
No race can be congenitally corrupt.
But can a race be corrupted by its culture?
To know why Indians are corrupt, look at their patterns and practices.
Firstly:
Religion is transactional in India.
Indians give God cash and anticipate an out-of-turn reward.
Such a plea acknowledges that favours are needed for the undeserving.
In the world outside the temple walls, such a transaction is named “bribe”.
A wealthy Indian gives not cash to temples, but gold crowns and such baubles.
His gifts can not feed the poor. His pay-off is for God. He thinks it will be wasted if it goes to a needy man.
In June 2009, The Hindu published a report of Karnataka minister G. Janardhan Reddy gifting a crown of gold and diamonds worth Rs 45 crore to Tirupati.
India’s temples collect so much that they don't know what to do with it. Billions are gathering dust in temple vaults.
When Europeans came to India they built schools. When Indians go to Europe & USA, they build temples.
Indians believe that if God accepts money for his favours, then nothing is wrong in doing the same thing. This is why Indians are so easily corruptible.
Indian culture accommodates such transaction
First: Morally. There is no real stigma. An utterly corrupt JayaLalita can make a comeback, just unthinkable in the West.
Secondly:
Indian moral ambiguity towards corruption is visible in its history. Indian history tells of the capture of cities and kingdoms after guards were paid off to open the gates, and commanders paid off to surrender.
This is unique to India.
Indians' corrupt nature has meant limited warfare on the subcontinent.
It is striking how little Indians have actually fought compared to ancient Greece and modern Europe.
The Turk's battles with Nadir Shah were vicious and fought to the finish.
In India fighting wasn't needed, bribing was enough to see off armies.
Any invader willing to spend cash could brush aside India’s kings, no matter how many tens of thousands soldiers were in their infantry.
Little resistance was given by the Indians at the “Battle” of Plassey.
Clive paid off Mir Jaffar and all of Bengal folded to an army of 3,000.
There was always a financial exchange to taking Indian forts. Golconda was captured in 1687 after the secret back door was left open.
Mughals vanquished Marathas and Rajputs with nothing but bribes.
The Raja of Srinagar gave up Dara Shikoh’s son Sulaiman to Aurangzeb after receiving a bribe.
There are many cases where Indians participated on a large scale in treason due to bribery.
Question is: Why Indians have a transactional culture while other 'civilized' nations don't?
Thirdly:
Indians do not believe in the theory that they all can rise if each of them behaves morally, because that is not the message of their faith.
Their caste system separates them.
They don't believe that all men are equal.
This resulted in their division and migration to other religions.
Many Hindus started their own faith like Sikh, Jain, Buddha and many converted to Christianity and Islam.
The result is that Indians don't trust one another.
There are no Indians in India, there are Hindus, Christians, Muslims and what not.
This division evolved an unhealthy culture. The inequality has resulted in a corrupt society, in India every one is thus against everyone else, except God ­and even he must be bribed.
*BRIAN from*
*Godzone NEW ZEALAND*
Sadly....yes !
(Incidentally, New Zealand is one of the least corrupt nations in the world.)

कई बार द्वेष-घृणा के अतिरेक में इंसान सच्ची बात भी बोल जाता है!

जाट ने अत्याचार, ना किसी का सहा और ना सराहा; अत्याचारी को ना बढ़ाया ना पनपाया| वरन ऐसे लोगों में सूदखोर हुए तो उनकी बहियाँ (बही-खाते) फाड़ी और ढोंगी-पाखंडी हुए तो उनके टाकणे छांगे|

बता, राजकुमार सैनी तक इस बात को मानता है| बस एक बीजेपी-आरएसएस के पीछे अंधभक्त बने फिर रहे जाटों को पता नहीं यह कब समझ आएगी कि आप सूदखोर-ढोंग-पाखंड को फैलाने वालों को समर्थन दे रहे हो, बढ़ावा दे रहे हो|

आँखें खोलो भगत बने जाटो, मत तोड़ो ऐसी रीत को; जिसकी कि राजकुमार सैनी जैसा आपका घोरतम आलोचक तक कुरुक्षेत्र में महाराजा अग्रसेन की जयंती समारोह में जिक्र चलाता हुआ कहता है कि "जाट वो हैं जो बहियाँ तक फूंक डालते थे!"।

देखो, आलोचक की महफ़िल में भी जिक्र होता है तो आपका किस ख़ास बात के लिए, भले ही फिर वो इस समाज के भले काम की बात में भी कोसने के बहाने आपका जिक्र उठाता हो|

धन्यवाद राजकुमार सैनी आपका, समाज में यह पुख्ता करने के लिए कि जाट ने सूदखोर छोड़ा ना, ना छोड़ा ढोंगी-पाखंडी|

इसके साथ अब समाज से यह मिथ्या-प्रचार की बात भी धुल जाएगी कि जाट सिर्फ गरीब-मजलूम पर अत्याचार करना जानता है| नहीं, अपितु जाट तो शक्तिशाली से भी शक्तिशाली की बही फाड़ना और टाकणे छांगना जानता आया है| इसीलिए तो जिधर देखो, उसका राज होने पर भी उस पर सिर्फ जाट के ही खौफ का सरमाया है| जो न्यूकर उसने जाट बनाम नॉन-जाट का दौर-ए-जिक्र, आते ही चलाया है|

जय यौद्धेय! - फूल मलिक

'जाट व् मित्र जाति युवा शक्ति' धर्म-आस्था-मान-मान्यता के मामले में अपनी दिशा और पैमाने बदलें!

सिर्फ दूसरों के दिए, बनाये या बताये त्योहारों-मान्यताओं की आलोचना करने से, उनका उपहास उड़ाने भर से काम नहीं हो जाने वाला| और उपहास या आलोचना भी सिर्फ उसकी ही उड़ानी ठीक रहती है जो आपकी आस्था-मान-मान्यता को दबाती हो| अंध-आलोचना या अंध-उपहास कभी भी खुद की सभ्यता को सँजोने-सँवारने-उभारने बारे सतर्क नहीं कर सकता|

इसलिए यह दूसरों की आलोचना-उपहास से पहले जरूरी है कि 'जाट व् मित्र जाति युवा शक्ति' अपने वाली आस्था-मान-मान्यता को अपने घरों की महिलाओं के जरिये अपने घर में उतारें| यह एक ऐसी लड़ाई है जो सोशल मीडिया पर नहीं अपितु घरों में लड़ी जाए तो ही विजय प्राप्त हो|

घर के मर्द की घर की औरत जरूर से जरूर सुनती है| औरत का हृदय कोमल और निष्पाप होता है| वह जो भी करती है अपने घर की भलाई की सोच के करती है| परन्तु वह तर्कशील नहीं होती, सिर्फ भावनाओं और आसपास क्या प्रभाव है उसके चलते वही अपने घर में करने-बरतने लग जाती है| लेकिन जब उसको यह समझ आता है कि यह देखा-देखी जो कर रही हूँ यह तो मेरे ही घर का आध्यात्मिक व् उससे भी बड़ा आर्थिक दोहन है तो वह जरूर उससे उल्टा हटती है| दूसरा वो ऐसा अपनी खुद की मान-मान्यता-आस्थाओं की जानकारी व् प्रचार के अभाव में भी करती है| इसलिए अपने घर की औरतों को इनके आध्यात्मिक-आर्थिक-अपनेपन के पहलुओं पर समझाना और समझना होगा|

'जाट व् मित्र जाति युवा शक्ति' को अगर यह दूसरों के त्यौहार जो हमारे घरों में घुस गए हैं, यह निकाल के; अपनी आस्था और मान-मान्यता घर में उतारे रखनी व् इनसे बचानी है तो अपने-अपने घर की औरतों से तार्किक बहस करनी होगी| इन आस्थाओं के पीछे सबसे बड़ा तर्क यह दो कि हमारी जितनी भी मान-मान्यताएं रही हैं वह हमारी आर्थिक स्थिति को उभारने वाली या बना के रखने वाली रही हैं; जबकि यह जो दूसरों की देखा-देखी अपने घरों में घुसा रही हो, इनमें अधिकतर हमारे घरों का आर्थिक दोहन व् इनको फैलाने वालों का आर्थिक-वर्धन करने वाली हैं| हमारी आध्यात्मिक मान्यता समाज में लोकतंत्र को बढाने वाली हैं, जबकि यह जो बाहर से घर में घुसा रही हो यह अधिनायकवाद, फासीवाद को बढ़ावा देने वाली हैं|

इसलिए बहुत हुए यह औरों की मान्यताओं-त्योहारों के उपहास उड़ाना व् आलोचना करना| अब इनकी बजाये इस पर ध्यान केंद्रित हो कि पहले हमारी जो मान-मान्यता-आस्थाएं हैं वो सम्भाली जाएँ; उन पर अपने घर-परिवारों में चर्चा होवें|

और इस जाट बनाम नॉन-जाट के माहौल से अपनी चीजों को सम्भालने की जाटों की लालसा व् उत्सुकता ने और सोशल मीडिया के जरिये यूनियनिस्ट मिशन के यौद्धेयों के प्रचार ने इतना तो प्रचारित कर दिया है कि असली जाटू-सभ्यता की मान-मान्यताएं क्या हैं| अब इनको सोशल मीडिया से उठा के अपने घरों में ले जाने की बारी है|
यह बिना-देखे-परखे बस देखा-देखी में किसी की भी बताई कोई भी मान-मान्यता को अपने घर में घुसा लेना उन सबसे बड़े कारणों में से एक है जिसकी वजह से आज आपका समाज जाट बनाम नॉन-जाट का दंश झेल रहा है| इसलिए ऐसा मत समझना कि यह जाट बनाम नॉन-जाट, कोई ओपरी-पराई आ के आपके ऊपर उतार गई; नहीं बल्कि आपकी इन रीशम-रीशां कुछ भी घर में घुसा लेने की आदत ने ही इन लोगों के इतने हौंसले बुलन्द किये हैं कि अब इन्होनें आप पर जाट बनाम नॉन-जाट थोंप दिया| बस इसको ठीक कर लीजिये 100% जाट बनाम नॉन-जाट कुछ ही समय में स्वाहा ना हो जाए तो मेरे कान पकड़ लेना; कि क्या कह रहा था|

और इसमें ग्रामीण जाट से शहरी जाट ज्यादा दोषी है, इन्होनें ही समाज में यह रीशम-रीशां और थोथे एट्टीट्यूड के नकचढ़े दिखावों के चक्कर में यह जाट बनाम नॉन-जाट की बला जाट समाज पे ज्यादा उडलवाई है| हालाँकि दोषी ग्रामीण जाट भी है; परन्तु इस बीमारी की लीडरशिप में शहरी जाट है|

 जय यौद्धेय! - फूल मलिक

जाट समाज के आलोचकों का कोटि-कोटि धन्यवाद!

हे जाटो! मनोहरलाल खट्टर, अश्वनी चोपड़ा, मनीष ग्रोवर, राजीव जेटली, राजकुमार सैणी, रोशनलाल आर्य जैसे लोगों का धन्यवाद करो। धन्यवाद करो इनका कि आपको इनके रूप में आलोचक मिले। जैन मुनि तरुण सागर कहते हैं कि "आलोचक बुरा नहीं, वह तो जिंदगी के लिए साबुन का काम करता है। गली में दो-चार सूअर हों तो गली साफ़ रहती है।"

यह आलोचक नहीं होते तो आपने यूँ ही शहरी व् ग्रामीण जाट में बंटे रहना था; कहीं अमीर व् गरीब जाट में बंटे रहना था; यूँ ही अपने त्यौहारों को छोड़ गैरों के मनाते फिरना था। अबकी बार देखो कितना बदलाव आया है; बदलाव आया है तब से जब से खट्टर-चोपड़ा-ग्रोवर-जेटली-सैणी-आर्य जैसी साबुनों ने आपके समाज में आपके अपनों के प्रति अपनेपन की मैली हो चुकी भावना को धो के निखारा है।

सोशल मीडिया पर ही देख लो, शुद्ध जाटू-सभ्यता के त्योहारों की कितनी बधाइयाँ बढ़ी और आपस में दी गई। आप अपने आपको गर्व से जाट और गर्व से हरयाणवी कहने लगे हो। वर्ना तो औरों से ही भाईचारा निभाने के टूल्स बनके रह गए थे।

जय यौद्धेय! - फूल मलिक

हिन्दू अरोड़ा/खत्री समुदाय कब तक दूसरों को बन्दूक चलाने के लिए अपना कन्धा इस्तेमाल होते रहने देगा?

भारत में हिन्दू संस्कृति व् धर्म नाम की कोई चीज नहीं है; इसमें सिर्फ तीन पार्टी हैं| एक बन्दूक चलाने वालों की, एक जिनके कन्धे रख के बन्दूक चलाई जाती है उनकी और एक जिन पर बन्दूक चलाई जाती है उनकी|

आजकल हरयाणा में जिन समाजों के कन्धों पर रखकर बन्दूक चलाई जा रही है वो दो समाज हैं एक सैनी समाज और दूसरा अरोड़ा/खत्री समाज| बन्दूक चलाने वाले कौन हैं और किनके ऊपर चलाई जा रही है, यह जो हरयाणा के 1% हालात भी जानता होगा, बखूबी वाकिफ होगा|

ताज्जुब हुआ ना जानकर कि सैनी की तो देखी जाएगी, परन्तु क्या सवर्ण कहलाने वाला अरोड़ा/खत्री समाज भी ऐसे इस्तेमाल किया जा सकता है? तो जवाब है हाँ| और ऐसा इस समाज के इस्तेमाल जैसा पहली बार नहीं, इतिहास में पहले भी हो चुका है|

1984 में पंजाब में लड़ाई छिड़ी बन्दूक चलाने वालों में और जिनपर चलाई जा रही थी उनमें; और हिंदुओं के एक-इकलौते समुदाय जिसको इसका खामियाजा भुगतना पड़ा था वो था खत्री/अरोड़ा समुदाय| 1991 की जनगणना के अनुसार पंजाब की जनसँख्या में 1981 से ले के 1991 के मध्य 5% हिन्दू कम हुआ जो कि यही समुदाय था| 1985 से लेकर 1991 तक गोली चलाने वालों को अपना कन्धा प्रयोग करने के लिए देने की वजह से यह समाज आतंकवाद के निशाने पर रहा और इस वजह से इस समुदाय को पंजाब छोड़, हरयाणा में शरण लेनी पड़ी थी|

क्या यह समुदाय फिर से बन्दूकचियों को अपना कन्धा प्रयोग करने देगा? देगा क्या, मेरे ख्याल से बखूबी प्रयोग हो रहा है|

राजकुमार सैनी से तो मैं उम्मीद ही छोड़ चुका हूँ, क्योंकि वो तो अब वह वाली नकटी लुगाई बन चुका है, जिसको एक मारो तो आगे से कहेगी "इबकै मार के दिखा"; परन्तु शायद मेरा यह लेख अरोड़ा/खत्री समाज को यह बात समझा जाए कि कोई उनका भी इस्तेमाल कर सकता है|

जय यौद्धेय! - फूल मलिक

Tuesday, October 18, 2016

यूरोपीय देशों में कल्चर खेती से जुडी है, जबकि भारत में निठल्लों की जुबान से!

आखिर क्यों सबसे धनी संस्कृति की शेखी बघारने वाले भारत की शहरी संस्कृति अलग है और ग्रामीण अलग; जबकि फ्रांस-इंग्लैंड जैसे देशों में वही शहर का कल्चर है जो यहां ग्रामीण एग्रीकल्चर का कल्चर है?

इंग्लिश और फ्रेंच भाषा, दोनों में कल्चर शब्द एग्रीकल्चर से निकलता है; यानि जैसी खेती वैसा कल्चर| और यह बात सही भी है| जबकि हिंदी हो या संस्कृत, दोनों में खेती शब्द का संस्कृति शब्द से कोई तालमेल ही नहीं दिखता; इन्होनें शब्दवाली ही ऐसी बनाई है कि खेती को संस्कृति से दूर रखा हुआ है| गंवार-गाँवटी कहते हैं यह खेती को| और इनके लिए संस्कृति यानि कल्चर वही है जो यह बोलते-लिखते हैं|

एक ख़ास बात और, इंग्लैंड-फ्रांस के शहरों का वही कल्चर है जो यहां के गाँवों का है; क्योंकि यहां शहर हों या गाँव, एक ही प्रकार के, एक ही संस्कृति के लोगों ने बसाये हैं| वही चौड़ी-चौड़ी सड़कें, हवादार गलियारे और शहर के बीच में गाँव की चौपाल की भांति सिटी सेंटर्स| जबकि हरयाणा को ही देख लो, एक भी शहर की बनावट, हरयाणवी ग्रामीण सभ्यता से मैच नहीं करती| इन शहरों की पुराणी गलियों में चले जाओ, इतनी भीड़ी होती हैं कि 3-4 मंजिल मकानों की कतार वाली गलियों में तो नीचे सड़क तक सूरज भी नहीं घुस पाता| छोटे-छोटे मकान, छोटी-छोटी रिहाइशें, किसी भी तरीके से इनमें हरयाणा की ग्रामीण संस्कृति का अंश नहीं झलकता|
और ऐसे ही महान ग्रामीण पृष्ठभूमि से शहरों में आन बसने वाले ग्रामीण हरयाणवी| इनको यह अहसास ही नहीं कि अपनी कल्चर को अपने साथ ले के चलो, बस शहर में आ गए, ऐसे मानने लग जाते हैं कि किसी दूसरी ही दुनियां में आ गए|

वैसे एक बार एक सरफिरे एंटी-हरयाणवी पत्रकार ने ताऊ देवीलाल जी से भी कल्चर के बारे पूछा था तो ताऊ जी ने दो-टूक कही थी कि हमारी कल्चर है एग्रीकल्चर। तो हरयाणवी समाज सोचे इस पहलु पर कि आपकी ग्रामीण और शहरी संस्कृति में इतना फर्क क्यों? जबकि फ्रांस-इंग्लैंड जैसे विश्व के वीटो पावर एवम विकसित देशों की ग्रामीण-शहर दोनों की संस्कृति एक जैसी है|

जय यौद्धेय! - फूल मलिक

Sunday, October 16, 2016

भक्ति या अंध्भक्ति जाट का डीएनए ही नहीं, भक्त बने जाट व्यर्थ ही अपने ही डीएनए से जूझ रहे!

अंधभक्त बने जाटों की सबसे बड़ी दुविधा यह है कि वो अंधभक्ति दिखाने की कोशिश में अपने ही डीएनए के विरुद्ध जद्दोजहद कर रहे हैं| क्योंकि जाट डीएनए अधिनायकवाद के सिद्धांत का है ही नहीं| इसमें या तो हर कोई राजा है या फिर हर कोई रंक| इसीलिए कहावत भी कही गई है कि "भरा पेट जाट का, राजा के हाथी को भी गधा बता दे"| और नवजोत सिंह सिध्धू अभी-अभी राजा रुपी पीएम मोदी के हाथी रुपी बीजेपी को गधा बताते हुए, बीजेपी को लात मार के; इसको साबित भी कर चुके हैं|

ऐसे ही दो-तीन किस्से और भी सुनाता हूँ, परन्तु थोड़े दूसरी तरह के| यह ऐसे किस्से हैं जब जाटों ने खुद ही, अहंकार में आये राजनेताओं को ही राजनीति में औंधे मुंह गिराया या उनके दम्भ को चकनाचूर कर दिया|
आज जो भिवानी से सांसद हैं धर्मवीर पंघाल जी, इनकी पहली राजनैतिक विजय हुई ही इस वजह से थी कि हरयाणा मुख्यमंत्री के तौर पर 10 साल से राज करते आ रहे हरयाणा निर्माणपुरुष चौधरी बंसीलाल जी ने उनके हल्के में शेखी बघार दी थी कि मेरे से बड़ा कोई जाट नेता नहीं आज के दिन; मेरे सिवा तुम किसके साथ लगोगे| बस जाटों को यह बात ऐसी अखरी कि "बिल्ली के भागों, छींका छूटने" और "चाहे गाम की गाल में बुग्गी पे बैठा मानस एमएलए बनाना पड़ जाओ, पर इसमें उभरते अधिनायकवाद को नहीं छोड़ेंगे" अंदाज में 1977 के विधानसभा चुनाव में अदने से युवा धर्मबीर पंघाल को चौधरी बंसीलाल के विरुद्ध एमएलए बना दिया|

यह हरयाणा का एक-इकलौता ऐसा वाकया है जब कोई सीएम से ले के देश के रक्षा-मंत्री कद का नेशनल लेवल का नेता अपनी गृह-सीट पर ही चुनाव हार गया हो| वर्ना कोई हरा के दिखा दो हुड्डा जी को किलोई-सांपला से, चौटालाओं को डबवाली साइड से और ऐसे ही आजीवन अपराजित स्वर्गीय भजनलाल रह के चले गए मंडी-आदमपुर से|

दूसरा किस्सा "महम-कांड" तो जगप्रसिद्ध है; हर कोई जानता है कि चौधरी आनंद सिंह दांगी व् महम-चौबीसी-खाप बनाम चौधरी ओम प्रकाश चौटाला जी की सरकार के बीच कैसी खूनी-जंग चली थी| कैसे महम-चौबीसी वालों ने सैंकड़ों पुलिस व् सीआरपीएफ वालों को दौड़ा-दौड़ा पीटा था और कैसे पुलिस व् फाॅर्स वाले अपनी वर्दी छोड़-छोड़ जानें बचाते हुए खेतों-कीचड़ों से लथपथ होते भागे थे| यह हादसा चौटाला साहब की सीएम की कुर्सी भी लील गया था|

तीसरा तगड़ा, झटका फरवरी 2016 में हुए जाट आंदोलन के तहत सीधा पीएम मोदी, बीजेपी, आरएसएस, राजकुमार सैनी और खट्टर सबके अहम को एक साथ दिया; चार दिनों में सरकार घुटनों के बल आ गई थी| परन्तु यह ठहरे झूठों के झूठे, सात फेरे लेने वाली से किये वचन नहीं निभाते; जनता से किये तो तब निभाएंगे|

तो सार यही है कि आज जो आप इनके दिखाए थोथे जुमलों से लबरेज सब्जबागों के हत्थे चढ़ के अपने ही डीएनए के विपरीत खुद से व् समाज से व्यवहार कर रहे हो, यह तभी तक है जब तक बीजेपी-आरएसएस वाले आपकी अनख पे बैठने जैसा कुछ उट-मटीला टाइप नहीं करते| हालाँकि फरवरी वाले उट-मटीले ने बहुत से अंधभक्त बने जाटों की आँखें खोली हैं और रही-सही की भी किसी न किसी दिन खुली ही समझो| और जिस दिन खुली, उस दिन किसी के कहने की भी लोड नहीं होनी, खुद ही इनके पैर उखाड़ दोगे; क्योंकि एक कहावत है कि "जाट निवाला भी खिलावेगा तो गले में रस्सा डाल के"|

इसलिए जिसको अपने जितने काम निकलवाने हैं, चुपचाप निकलवाते रहो| ज्यादा इस चक्कर में मत पड़ो कि अपने काम निकलवाने के ऐवज में इनके एजेंडा भी हरयाणा में फैलवा दें| हंसी-ख़ुशी राजी-मिजाजी में तो सत्तर बार जाट इनको सर पे चढ़ाये रखते, परन्तु फरवरी के बाद से अधिकतर जाट सिर्फ इस मूड में है कि बस अपने काम निकलवाओ और बाई-बाई बोलते जाओ|

 जय यौद्धेय! - फूल मलिक

Saturday, October 15, 2016

हिन्दू विवाह अधिनियम का जिन्न, जाटू (खाप) मान्यता व् इसके मायने!

जाटू मान्यता का विवाह कानून पूर्णत: जेंडर-न्यूट्रलिटी पर टिका हुआ कांसेप्ट है; जो कि मानव सभ्यता की राह में आने वाले रोड़ों की न्यूनतम पध्दति पर बनाया गया है| न्यूनतम-रोड़े इसलिए कहा क्योंकि हर मान-मान्यता ख़ास और खतरा दोनों पहलु रखती होती है, जिनको कि न्यूनतम तो किया जा सकता है, परन्तु इन दोनों तरफा सम्भावनाओं से कोई मान-मान्यता पूर्णत: रिक्त नहीं हो सकती| और ऐसी ही न्यूनतम खतरा और अधिकतम ख़ास को साथ लिए बनी है जाटू उर्फ़ खाप वैवाहिक मान्यता| आईये देखें कैसे:

पैंतीस बनाम एक का ऐसा माहौल हो रखा है कि इस विषय में जाट का नाम होने से, शायद जाट तक इसको शक की निगाह से देखें| परन्तु मुझे तो बोलना है, सो बिंदास-बेझिझक बोलूंगा; वर्ना ऐसे कंजर लोग बैठे हैं कि नहीं बोला तो इस विश्व-स्तर की ख़ास सभ्यता को लील ही जायेंगे| सबसे पहले इसकी ख़ास बातों पर बात:

जाटू-मान्यता की सगोत्र विवाह मनाही की प्रणाली जेंडर-न्यूट्रल है, जो कि "खेड़े के गौत" के नियम पर आधारित है| "खेड़े के गौत" के तहत दो सिस्टम हैं, पहला "एक गौतीय खेड़ा" और दूसरा "बहु-गौतीय खेड़ा"। एक गौतीय खेड़े वाले गाँव में सगोत्र व् गांव-की-गांव में विवाह नहीं हो सकता, क्योंकि इसके तहत गाँव में आने वाली बहु हो या घर-जमाई, अपना गौत पीछे छोड़ के आते हैं| यानी गाँव में बेटे की औलाद बसे या "ध्यानी-देहल की औलाद" उनका गौत "खेड़े का गौत" चलता है|

जाट समाज में हर गौत का न्यूनतम एक व् अधिकतम असंख्य खेड़े होते हैं| "खेड़े के गौत" का सिस्टम, जाति के अंदर बिना किसी अवरोध-गतिरोध के अपनी-अपनी सब-जेनेटिक आइडेंटिटी व् अपने गौत-वंश-कुल के गणतन्त्र को युगयुगान्तर तक कायम रखने का फार्मूला है|

यह सिस्टम इंसान को वासना और मोह से दूर रहने हेतु भी बनाया गया है| सनद रहे वासना और मोह से मुक्त या दूर कैसे रहें, इस पर जानने हेतु किसी बाबा के सत्संग में जाने या नाम लेने की जरूरत नहीं और ना ही किसी आरएसएस को ज्वाइन करने की जरूरत| भान रहे कि अधिकतर बाबाओं के संगठनों में बाबा-लोग सदस्यों को भाई-बहन बना के रखते हैं या बन के रहने की हिदायत देते हैं; आरएसएस भी इस मामले में कम नहीं, यह लोग तो बाबाओं से भी दो कदम आगे चलते हुए मर्द को मर्द से ही राखी बंधवाते हैं| खैर, इसीलिए तो मुझे यह लोग आकर्षित नहीं कर पाते, क्योंकि जो यह करते हैं, उसका अधिकतर इन्होनें मेरी "जाटू-सभ्यता" के कांसेप्ट से चुराया हुआ लगता है|

जाटू-सभ्यता कहती है कि एक गौत के खेड़े के गाँव में 36 बिरादरी की बेटी-बहन-बुआ-भतीजी, आपकी बेटी-बहन-बुआ-भतीजी है; और जाट इस नियम का पालन करते हुए किसी दलित विरोधी तख्ती वाले मन्दिर की भांति यह शर्त नहीं लगाते कि दलित की बेटी को अपनी बेटी नहीं मानेंगे|

अब यहां पर वो लोग मुंह उठाकर रुदाली विलाप ना करें, जो मुझे गाँव-की-गाँव या घर की घर में अवैध सम्बन्धों का हवाला देते हुए इन मान्यताओं को झुठलाने या असरदार नहीं होने का रोना रोते हैं| क्योंकि यह मान्यताएं किसी पर थोंपी नहीं जाती, सिर्फ एक मार्ग के रूप में समाज में रखी जाती हैं जिनपर चलकर आप हर प्रकार का यश, कीर्ति, शौर्य, बुलन्दी हासिल कर सकते हैं, जो कि इनसे विमुख अवैध सम्बन्धों में पड़ा व्यक्ति हासिल नहीं कर सकता|

असल में जाट-सभ्यता की यही तो समस्या है कि इन लोगों ने इंग्लैंड के सविंधान की भांति, आज तलक भी सब-कुछ अलिखित रखा हुआ है और वह भी ऐसे लोगों के बीच में रहते हुए जो हगना-मूतना कैसे चाहिए, उसपे भी किताबें छाप के रखते हैं| लम्बा हो जायेगा, इसलिए इस बिंदु पर जाटू-सभ्यता में विश्वास रखने वालों से इसको डॉक्यूमेंट करने की अपील करते हुए लेख के विषय पर वापस लौटता हूँ|

"खेड़े के गौत" का सिस्टम उस गाँव में बसने वाली हर जाति के लिए समान रूप से "पहले आओ, पहले बसाओ" की नीति पर आधारित है| उदाहरण के तौर पर मेरी जन्म नगरी निडाना, जिला जींद, जाटों के मलिक गौत का, बनियों के गर्ग गौत का, ब्राह्मणों के भारद्वाज गौत का, चमारों के रँगा गौत का, धानकों के खटीक गौत का, एक गौतीय खेड़ा है|

बहु-गौतीय खेड़े में गांव-की-गांव में शादी की मनाही नहीं होती, परन्तु सगौत में विवाह की मनाही उन गाँवों में भी होती है|

दूसरी ख़ास बात, जाटू-विवाह सिस्टम में तलाक के बाद लड़की अगर "लत्ता-ओढाई" के तहत पति के सगे या चचेरे भाई में से किसी से भी विवाह की इच्छुक ना हो तो वह ससुराल-मायके में कहीं भी बसने की अधिकारी होती है| अगर वह मायके में आ के बसती है तो उसकी औलादों का गौत उसका चलेगा, उसके पति का नहीं|

मोटे-तौर पर इन बातों को ऐसे बिन्दुबद्ध किया जा सकता है:
1) जाटू-वैवाहिक प्रणाली जेंडर-न्यूट्रल है|
2) जाटू-वैवाहिक प्रणाली विश्व की शायद एकलौती ऐसी प्रणाली है जिसके तहत औलाद सिर्फ पिता ही नहीं अपितु माता का गौत भी धारण करती है| इस पहलु को जाटू प्रणाली को पुरुष-प्रधान कहने वाले असामाजिक तत्व खासकर नोट करें|
3) जाटू-वैवाहिक प्रणाली 'खेड़े के गौत' के "पहले आओ, पहले बसाओ" नियम पर आधारित है|
4) जाटू-वैवाहिक प्रणाली अगर एक गाँव को एक जाति के एक से ज्यादा गौत के लोग बसाते हैं तो वह गाँव बहु-गौतीय खेड़ा कहलाता है| जैसे कि सिरसा-फतेहाबाद साइड के बहुत से गाँव|
5) जाटू-वैवाहिक प्रणाली में तलाक के बाद औरत ससुराल-पीहर (मायका) जहां चाहे बस सकती है|
6) जाटू-सभ्यता के "एक गौती खेड़े" में 36 बिरादरी की बेटी-बहन-बुआ-भतीजी समान रूप से सबकी की बेटी-बहन-बुआ-भतीजी मानी जाती है, ताकि जेंडर-न्यूट्रलिटी के आधार-स्तम्भ को जीवित रखा जा सके|

मेरे पास इन तथ्यों के प्रैक्टिकल उदाहरण हैं और वो भी बहुतायत में; और यही उदाहरण मेरे इस लेख का आधार हैं|

इसलिए जाटू (खाप) मान्यता की संस्कृति में विश्वास रखने वाले व् इसके अनुसार चलने वाले लोगों-समाजों से अनुरोध करूँगा कि आज के दिन देश की विधायिका में ऐसे लोग कानून बनाने को बैठे हैं जिनके यहां कोई औरत विधवा हुई नहीं और पति की जायदाद-सम्पत्ति से बेदखल कर उठा के फेंक दी विधवा-आश्रमों में जीवन-भर सड़ने के लिए| तो इनको अपने ऊपर हावी ना होने देवें, आप स्वत: में एक विश्व-स्टैण्डर्ड की सभ्यता हैं; इसको अंगीकार करे रखें और आगे बढ़ाते रहें परन्तु सुधारों के साथ| क्योंकि इन मान्यताओं में लोभ-लालच के चलते कुछ ऐसे किस्से भी देखे गए हैं जो कि नहीं होने चाहियें| परन्तु इन किस्सों की संख्या 2-4% है, जबकि 96-98% मामलों में यह सभ्यता सकारात्मक परिणाम देती हुई, सदियों से आजतक कायम है|

जाटों की "सगौत्रीय विवाह में मनाही" और "गाँव की 36 बिरादरी की बेटी-बहन-बुआ-भतीजी को अपनी बेटी-बहन-बुआ-भतीजी" कहने की सभ्यता का मजाक उड़ाने वाले, अधिकतर वही बज्रबटटु होते हैं जो किसी नामधारी बाबा के सत्संग में सैंकड़ों कोस दूर से आई अनजान सत्संगन को भी बहन कहते पाए जाते हैं, या बाबा लोग इनसे ऐसा करने को कहते हैं या आरएसएस जैसों के यहां मर्द-मर्द को राखी बाँधने वाली कसम निभाते पाए जाते हैं|

बता यह सत्संग तो मेरे पुरखे बाई-डिफ़ॉल्ट मेरी जाट-सभ्यता में ही ना उतार गए थे, मुझे इसके लिए इन सत्संगों-संगठनों में जाने की भला क्या जरूरत? गाँव-की-गांव में जिनको बहन-बेटी-बुआ-भतीजी कहता हूँ उनको कम से कम जन्म से जानता होता तो हूँ| तरस आता है ऐसे लोगों पर जो अनजानों तक को बहन बनाते हैं और फिर जाटू-सभ्यता पर मुंह भी चिकलाते हैं|

जय यौद्धेय! - फूल मलिक

मुझे चाहिए कुछ ऐसा "यूनिफार्म सिविल कोड"!

1) IAS / IPS / IRS इत्यादि सिविल परीक्षाएं, इन नौकरियों में एंट्री के लिए नहीं अपितु प्रमोशन के लिए होवें। हर विभाग में सबसे छोटी पोस्ट से एंट्री का प्रावधान हो। यह सिस्टम इंग्लैंड, फ्रांस में तो मेरी जानकारी में लागू है। इसकी महत्वता इसी बात से समझी जा सकती है कि IIT व् IIM पास किये हुओं को भी कॉर्पोरेट सेक्टर में इंटर्नशिप यानी ट्रेनिंग से शुरू करना पड़ता है| उन्होंने IIT या IIM किया है, सिर्फ इस वजह से सीधे मेनेजर या टीम लीडर की पोस्ट पे नहीं बैठा दिया जाता।

2) जैसे पुजारी-पंडित-पूछा-पत्री-सत्संग-प्रवचन वाले अपने काम का पैसा खुद निर्धारित करते हैं, जैसे व्यापारी-कारोबारी अपने उत्पाद-सर्विस का दाम खुद निर्धारित करते हैं, जैसे मजदूर-कारीगर अपनी दिहाड़ी खुद बढाते-घटाते रहते हैं; ठीक ऐसे ही किसान की फसल के दाम तय करने का अधिकार सिर्फ और सिर्फ किसान का हो।

3) सरकारी गैर-सरकारी हर विभाग में A - B - C - D ग्रेड की नौकरियों का पेमेंट स्केल एक होना चाहिए।

4) बेचना हो या खरीदना, दोनों ही सूरत में किसान को मंडी या व्यापारी के दर पर जाना पड़ता है; यह बन्द होना चाहिए। किसान अपने उत्पाद को अपनी मार्किट बना के वहाँ बेचे, जैसे अन्य व्यापारी करते हैं। और वहाँ खरीदार आवें, फिर चाहे वो सरकारी खरीददार हों या प्राइवेट। या फिर किसान को मंडी-स्थल तक माल पहुंचाने का लोजिस्टिक्स/ट्रांसपोर्टेशन खर्च मिले। हालाँकि गन्ने की फसल में ऐसा प्रावधान है, परन्तु यह हर फसल के लिए लागू हो।

5) मीडिया को अपराध को अपराध दिखाने की हिदायत हो; अपराध की आड़ में किसी समुदाय-जाति-क्षेत्र को घसीटने-बदनाम करने की सख्त मनाही हो।

6) एससी/एसटी एक्ट की भांति हर जाति-वर्ण के पास ऐसा कानून हो, क्योंकि भारत में जातिसूचक शब्द हर वर्ग के लिए प्रयोग होते हैं।

7) हर सरकारी सेवा/सुविधा जनता को 5-7 किलोमीटर के क्षेत्र में मुहैया करवाई जाए; उसके लिए दफ्तर-विभाग गाँवों में उठा के ले जाने पड़ें, ले जाए जाएँ। 10 किलोमीटर से ज्यादा दूर जनता को सरकारी काम के लिए जाना हो तो सरकार उसका किराया व् खाना का खर्च भुगते।

8) अमेरिका-कनाडा-ऑस्ट्रेलिया-इंग्लैंड-आयरलैंड की भांति नौकरियों में आरक्षण सिर्फ और सिर्फ प्रतिनिध्त्वि व् प्रतिभागिता ही माना जाए, इसको गरीबी उन्मूलन का कार्यक्रम ना बनाया जाए। इसलिए जनसँख्या के अनुपात में जिला स्तर को पैमाना मानकर हर जाति-समुदाय का बराबरी से उस जिले-राज्य-देश की हर सरकारी गैर-सरकारी नौकरी में आरक्षण हो। इस पैमाने पर चलते हुए हर नौकरी की दो बार अधिसूचना निकाली जाए; फिर भी पद रिक्त रह जाएँ, तो रिक्त पदों के लिए जनरल भर्ती की जाए।

9) देश में सेना के होते हुए, किसी भी प्राइवेट संगठन-संस्था-एनजीओ को हथियार रखने या अपने कैडर को हथियारों की ट्रेनिंग देने की इजाजत ना होवे।

10) हर गाँव-शहर को एक स्वंतंत्र अर्थव्यवस्था माना जाए व् इस अर्थव्यवस्था को चलाने का हक़ उस गाँव-शहर की स्थानीय संस्था को होवे। सरकारी कर्मचारी उस व्यवस्था को सविंधान के अनुसार चलाने हेतु सहयोग हेतु होवे, ना कि आदेश हेतु।

11) भारत की न्याय-व्यवस्था में "सोशल ज्यूरी सिस्टम" लागू हो। सामाजिक, आर्थिक व् धार्मिक परिवेश के किसी भी मुदकमे को सुलझाने में अगर छह महीने से ज्यादा वक्त लग जाए, तो उस जज के खिलाफ ऑटोमेटिकली "शो-काज" नोटिस जारी हो।

12) जैसे अमेरिका का वाइट-हाउस हर एक लाख हस्ताक्षर पाने वाली याचिका पर तुरन्त कार्यवाही करता है; ऐसे ही भारत में राष्ट्रीय पर एक लाख हस्ताक्षर पाने वाली याचिका पर विधायिका-न्यायपालिका तुरन्त एक्शन लेवें। राज्य स्तर पर यह पैमाना जनसँख्या के अनुपात के अनुसार रखा रखा जावे।

13) अमेरिका-फ्रांस-इंग्लैंड की भांति हर प्रकार के धर्म को सिर्फ धर्म-स्थलों की परिधि में कार्यवाही की आज्ञा हो। गलियों-मोहल्लों में इनके कार्यक्रमों पर पाबन्दी हो। क्योंकि धार्मिक प्रतिनिधि उन्मादी होते हैं और उन्मादी व्यक्ति आम जनजीवन को दिशाहीन कर देता है; जिससे आमजन की शांति-सौहार्द-आजीविका में खलल पड़ता है।

14) हर धर्म के अंदर भी "यूनिफार्म सिविल कोड" हो; यह नहीं कि पुजारी के बेटा पुजारी और लाचारी का बेटा लाचारी कहलाये। सिख-मुस्लिम-ईसाई कैसे करेंगे इस पर उनके धर्म वालों से पूछा जाए। क्योंकि मैं हिन्दू जीवन शैली ((धर्म नहीं जीवन-शैली)) की मूर्ती-पूजा विरोधक आर्य-समाजी शैली से आता हूँ और "दादा खेड़ा भगवान्" का उपासक हूँ और क्योंकि दादा खेड़ा भगवान के दर पर ना ही तो कोई पुजारी बैठता और ना ही वहाँ आया प्रसाद-दान एक पुजारी या ट्रस्ट की भांति चुनिंदा लोग ले जाते। अपितु वहाँ बैठे गरीब लोगों को उपासना करने वाले अपने हाथों से दे जाते हैं। इसीलिए यही चाहूंगा कि जहां दान-चन्दा चुनिंदा व्यक्तियों या ट्रस्टियों के पास जाता है, वहाँ वह लोग उसका साप्तहिक-पाक्षिक-मासिक सार्वजनिक ब्यौरा प्रस्तुत करें और सरकार को टैक्स व् धर्मस्थल के रखरखाव के अलावा वह चन्दा कितना किधर लगेगा, यह उस धर्मस्थल के प्रभावक्षेत्र में आने वाले लोगों की आमराय के अनुसार ही खर्चा जाए; ताकि ऐसे पैसे से जाट बनाम नॉन-जाट जैसे अखाड़े ना रचाये जा सकें। हर धर्म संस्थान में एक निर्धारित टीम हो, जिसमें 50% पुरुष और 50% औरतें हों। इस टीम में सवर्ण-दलित-किसान-पिछड़े की बराबर की भागीदारी हो। काम भी बराबर बंटे हों। जैसे एक दिन सवर्ण मन्दिर में धुप-बत्ती करेगा और दलित झाड़ू-पोंछा करेगा तो अगले दिन दलित धुप-बत्ती करेगा और सवर्ण झाड़ू-पोंछा।

इससे होगा वाकई में "यूनिफार्म सिविल कोड" की भावना लोगों में लाने का उद्गम।

 जय यौद्धेय! - फूल मलिक

Friday, October 14, 2016

पश्चिमी बंगाल की सालिसी सभा और हरयाणा की हरयाणा सर्वखाप में अंतर!

सिस्टर स्टेट्स और खासकर मुम्बई में मराठों और ठाकरों से पिट के आये, हरयाणा-वेस्ट यूपी-एनसीआर में बैठे मीडिया के कुछ सरफिरे; स्थानीय संस्कृति-सभ्यता-मान-मान्यता को घाव देने की हद तक कुरेदने और अपमानित करने का वही वहियातपना अपनाने से बाज नहीं आ रहे हैं जो एक ठाकरे खड़ा करने या स्थानीय लोगों को मनसे के रूप में एकजुट कर ऐसे लोगों को पीटने-भगाने की वजहें बनते हैं|

ताज्जुब की बात तो यह है कि सरकार और देश के कानून के पास इन चीजों पर सर्विलियंस टीमें और सिस्टम व् मुम्बई में उत्तरी भारतियों को नफरत करने व् पीटने के सब अनुभव होने पर भी, इन मीडिया वालों को मर्यादा लांघने के नोटिस या ऐसा ना करने की हिदायतें देते नहीं दिख रहे| सरकार तो छोड़ो, देश के कोर्ट-कानून की भी तो कोई जिम्मेदारी बनती है कि सामाजिक मान-मर्यादा रुपी ताँगे में जुते इस मीडिया रुपी घोड़े की लगाम खींचे और सही दिशा में इनको रखें? क्या यह बताने का काम भी सड़क किनारे खड़ी सवारियों का है कि देखो घोडा बेढंगा चल रहा है, इसको सही से लगाम में रखो?

अब इस महाबकवाद न्यूज़ बनाने वाले से कुछ सवाल; यह जो भी एबीसी पत्रकार है, जिस किसी भी एक्सवाईजेड मीडिया एजेंसी से है, इससे कुछ व्याख्याओं समेत सीधे-सीधे सवाल:

1) क्या कभी सालिसी पंचायतों ने भारतीय इतिहास के किसी भी युद्ध में भाग लिया है?
2) क्या बाबर-लोधी-रजिया जैसे हरयाणा सर्वखाप के ऐतिहासिक चबूतरे सोहरम, पर शीश नवाने कोई मुग़ल सालिसी पंचायतों के यहां हो के गया है? सर्वखाप हरयाणा के पास यह ऐसा इकलौता शाहकार और सम्मान है जो किसी अन्य पंचायती संस्था और सिस्टम तो छोड़ो, देश के किसी मंदिर के भी नसीब में नहीं|
3) क्या सालिसी पंचायतों के पास आज भी पहलवानी दस्ते और एक आवाज पर आर्मी की आर्मी खड़ा कर देने का कोई सिस्टम है? हरयाणा सर्वखाप के पास है, एक बार आह्वान भी दे देवें कि देश को आपकी सेवा की जरूरत है तो हजारों-हजार युवक-युवतियां पूरी तैयारी के साथ इकठ्ठा हो जाएँ?
4) क्या इन सालिसी पंचायतों के पास सर्वखाप हरयाणा की भांति पूरी हैररकी है?
5) क्या इन सालिसी पंचायतों के पास अंग्रेजों से लड़ाई करने का कोई इतिहास है, हरयाणा सर्वखाप के पास है|
6) सर्वखाप पंचायत बाकायदा ऑफिसियल चिठ्ठी भेजकर बुलाई गई मीटिंग होती है, जिसकी बाकायदा मिनट ऑफ़ मीटिंग का रिकॉर्ड रखा जाता है; क्या इन सालिसी पंचायतों में ऐसा कोई सिस्टम है?
7) खाप पंचायतें समय-समय पर ढोंग-पाखंड-आडम्बरों के खिलाफ समाज के भले हेतु गाइडलाइन्स और डायरेक्शन्स इशू करती हैं, क्या यह सालिसी पंचायतें ऐसा करती हैं?
8) कहीं ऐसा तो नहीं यह हिन्दू धर्म के सवर्ण लोगों की वो टिपिकल संस्था हो जो समाज के दलितों-पिछड़ों को अपनी नकेल में रखने हेतु होती हों? सनद, रहे हरयाणा सर्वखाप का ऐसा कोई इतिहास नहीं, कोई मीटिंग का रिकॉर्ड नहीं, मौका नहीं; जब उसने सर्वसमाज की बात ना करके, मात्र दलित-पिछड़ा ही कैसे रहे, इसपे कोई बात करी हो| सर्वखाप बात करती रही है तो सर्वसमाज की, उसमें फिर क्या ब्राह्मण, क्या जाट और क्या दलित| तो क्या सालिसी पंचायतें भी इसी तरह का फॉर्मेट हैं?

ओ सभ्यता और संस्कृति के लुटेरे, ओ इस अख़बार की कटाई के लेखक; आप मुझे यह बताईये| जब मोदी यह कहे कि किसी पंचायत स्तर पर कुछ बुरा हो जाए तो उसके लिए मोदी जिम्मेदार कैसे हो सकता है, जब किसी मोहल्ला स्तर पर कुछ गड़बड़ हो जाए, उसके लिए मोदी जिम्मेदार कैसे हो सकता है; तो इसी तरीके से हरयाणा के किसी घर में कोई हॉनर किलिंग कर दे, या 2-4-10-5 जन का समूह किसी गांव के किसी कोने में अ ब स किस्म की किसी भी आपसी रंजिस के चलते, एक दूसरे के खिलाफ कोई कदम उठा ले; तो खाप या सर्वखाप उसके लिए कैसे जिम्मेदार हो सकती है? इस देश में सरकारी अदालतों के 3 करोड़ से ज्यादा मामले लटक रहे हैं, तो क्या कभी बोलते हो कि देश का सुप्रीम कोर्ट इसके लिए जिम्मेदार है?

विशेष: मैं इस पत्रकार से इस विषय पर वन-टू-वन डिबेट करना चाहूंगा| यह बन्दा या बन्दी आप में से जिस किसी की भी जानकारी या नेटवर्क में होवे तो इसको मेरे इस जवाब समेत, डिबेट बारे निमन्त्रण का आह्वान जरूर देवें| इसके लिए आपकी अति कृपया होगी| वरना ऐसी "सिंह ना सांड और गीदड़ गए हांड!" की इनके ही द्वारा बनाई गई परिस्थिति में होनी होने को होती है और ऐसे में लगे हाथों इनको एक और बहाना मिल जायेगा स्थानीय हरयाणवी सभ्यता को कोसने का| मैं चाहता हूँ कि इस लेखक के साथ ऐसी नौबत ना आवे, इसलिए यह इस विषय पर मुझसे डिबेट कर ले|

जय यौद्धेय! - फूल मलिक


Thursday, October 13, 2016

शोषककर्ता अनुत्पादक वर्ग कभी नहीं चाहेगा कि उत्पादक वर्ग अपनी समस्याओं पर विमर्श हेतु सोचे भी! - दीनबन्धु रहबर-ए-आजम चौधरी सर छोटूराम!

9 अप्रैल सन 1944 को लायलपुर में पंजाब की जाट महासभा का महासम्मेलन आयोजित था|  सारा शहर पोस्टर और बैनेरो से पटा पड़ा था| उर्दू और पंजाबी दोनों भाषाओ में लिखित नारों से दीवारे रंगी पड़ी थी| कितने ही स्वागत द्वार सजे थे, लायलपुर के कृषि कॉलेज की सारे भारत में धाक थी|

दीनबंधु चौधरी छोटू राम जी इस आयोजन के मुख्य अथिति थे| उनको हाथी पर बैठाकर सभास्थल तक लाया गया ,नारों और नादों से गगन गुंजित था, चारों और से समवेत श्वर-नाद गुंजित थे - जाट सभा जिंदाबाद जिंदाबाद!! जाट जवान! जाट बलवान! जय भगवान! छोटूराम तुम आगे बढ़ो -हम तुम्हारे साथ हैं!

यह एक प्रकार से उन्हीं का सम्मान समारोह था! वही आज के मुख्य अथिति और मुख्य वक्ता थे| उन्होंने अपने उदगारों को उच्छल अभिव्यक्ति दी थी - "जाट सभा के सदर चौधरी शहाबुद्दीन साहब, सेक्रेटरी बैरिस्टर हबीबुल्ला खान साहब, मेरे प्यारे जाट किसान भाईयो,आज आपके बीच में पाकर, मै स्वयं को बहुत गौरावान्वित अनुभव कर रहा हूँ| आपने ये जो इतना बड़ा इजलास यहाँ बुलवाया है, मुझे नहीं मालूम इसका मकसद क्या है? लेकिन मै इतना जानता हूँ कि हम जाट लोग किसी जाति या वर्ग विशेष के विरोधी नहीं हैं, हम तो अपने सामजिक और आर्थिक तथा राजनैतिक हालतों पर ही तबाद्लाये -ख्याल करने के लिए ही यहाँ एकत्र हुए हैं| जब दूसरे लोग ब्राहमण सभा, खत्री सभा, कायस्थ सभा और बहाई,अराई या सैयद सभा, या व्यापार मंडल के नाम से एक जुट हो सकते हैं तो फिर जाटों के सामाजिक या राजनैतिक संगठन पर ही तोहमतें क्यों जड़ी जाती हैं? सबब साफ़ है कि जब अनुत्पादक वर्ग स्वयं तो शोषण करने के लिए संगठित रहना चाहता है, और जब उत्पादक वर्ग किसी बहाने से मिल बैठकर अपनी जीवन दशाओं पर विचार विनिमय करना चाहते हैं तो यह वर्ग बौखला उठते हैं| सबसे ज्यादा परेशानी आज इस रूप में आपको बैठे देखकर मजहबी कठमुल्लों को हो रही होगी, क्योंकि वही तो आप लोगों को हिन्दू, मुस्लिम, सिख तथा ईसाई के रूप में बांटकर शोषकों का काम आसान करते हैं| हम कोई धर्म मात्र के विरोधी नहीं हैं, लेकिन हमारा पूर्ण विश्वाश है कि मत-मजहब केवल मनुष्य के विचारों को ही बदल सकता है; वह आदमी की नस्ल या खून में कोई तब्दीली नहीं ला सकता| इस रक्त की रंगत को फीकी नहीं कर सकता| इसीलिए जाहिर है कि -

"हमनें यह माना कि मजहब जान है इंसान की,
कुछ इसके दम से कायम शान है इंसान की|
रंगे- कौमियत मगर इससे बदल सकता नहीं,
खूने आबाई रंगे तन से निकल सकता नहीं||"

हवाला: लेखक श्री सूरजभान दहिया, एम.एस. सी. (सांख्यिकी), एम .ए. (अर्थशात्र) स्नातकोत्तर डिप्लोमा (पत्रकारिता ) द्वारा लिखित पुस्तक - "दीनबंधु छोटूराम के व्यक्तित्तव की झलक" से रहबरे-आजम नामक पाठ के कुछ अंश|

उपलब्धकर्ता: कुंवर विजयंत सिंह बेनीवाल

Wednesday, October 12, 2016

"युद्ध से बुद्ध" की राह आरएसएस वालों से क्यों नहीं प्रवणा देते, पी.एम. साहब?

गए महीनों तक तो सिर्फ अंतराष्ट्रीय पट्टल जैसे कि लन्दन-चीन-जापान जैसी जगहों के दौरों में ही पीएम के भाषण में "भारत बुद्ध का देश है" का जिक्र आता था; अब तो हालात यह हो गए हैं कि कोझिकोड और मथुरा की देशी रैलियों में भी जनाब के मुखमंडल पर "बुद्ध" विराजमान हैं। जबकि इनकी पैरेंट आर्गेनाइजेशन आरएसएस बुद्ध को अपने आस-पास, बाहर-भीतर कहीं भी फटकने तक नहीं देती।

राम, लक्ष्मण, कृष्ण सब बुद्ध के आगे फीके पड़ चुके हैं, हर तरफ बुद्ध-ही-बुद्ध। माफ़ करना परन्तु, आपके जुमले आपकी नौटंकियाँ कहाँ जा कर रुकेंगी; पीएम महोदय? यह तो शुक्र है कि हॉलीवुड में आपके जितनी मारी गई गपेड़ों पर फ़िल्में नहीं बनती, वर्ना उधर से संवाद-डिलीवरी के काम की बाढ़ आ चुकी होती। ज़रा बॉलीवुड वालों को न्योता दीजिये, यह लोग तो पक्का आपके दफ्तर के आगे लाइन लगा देंगे।

अब काम की बात: आप साधु-सन्तों-आरएसएस की उस मेहनत पर पानी फेर रहे हैं पीएम साहब; जिसके जरिये उन्होंने पिछले दो दशकों से माइथोलॉजी के राम-कृष्ण को टीवी पर गवा-दिखाकर, इन मैथोलोजिकल विषयों पर लोगों में इनके वास्तविक इतिहास होने का इम्प्रैशन छोड़ने की कोशिश करी है। आप क्यों व्यर्थ में आरएसएस द्वारा अपने तरीके से भारतीय इतिहास पुनर्लेखन के कार्य में बाधा डाल रहे हैं? युद्ध का समय नहीं होता, तो यही सोच लेता कि बुद्ध की तरफ जाते दलितों व् अन्य ओबीसी को आकर्षित करने का एजेंडा है "बुद्ध का नाम लेना"।
दरअसल यही तो झगड़ा है। आप लोग, हवाओं में बुद्ध के नाम की खाना चाहते हो। पहले 20 साल राम के नाम की खाई, अब सेना और बुद्ध दोनों उठा लिए हैं। बात यहां तक भी हो तो समझ में आवे; बात तो इससे भी आगे गहरी जाती है। तमाम टीवी चैंनलों पर तो लोगों को रामायण-महाभारत परोसते हो, और हकीकत की जिंदगी में बुद्ध को औजते हो?

दुनिया समझ ले इस बात को कि यही हकीकत है जो पीएम दिखा रहे हैं, सिर्फ इशारा समझने की बात है। पीएम कहना चाहते हैं कि रामायण और महाभारत टेलीविज़न में देखने तक ही सही हैं, हकीकत से इनका कोई लेना-देना नहीं। क्योंकि लेना-देना होता तो पीएम की जुबां पर बुद्ध नहीं राम और कृष्ण होते, गीता होती।

अब चलते-चलते "युद्ध से बुद्ध" की हकीकत भी बता दूँ। "बुद्ध से युद्ध" तक लाने वाले भी यही लोग और अब "युद्ध से बुद्ध" की गाने वाले भी यही लोग। आज से पंद्रह-एक शताब्दी पहले पूरे उत्तरी भारत में बुद्ध-ही-बुद्ध था। परन्तु इन लोगों को वह बुद्ध कहाँ भाया था, ऐसी मार-काट मचवाई (जैसे आज जाट बनाम नॉन-जाट के नाम पर मचवाने को उतारू फिर रहे हैं) कि आज तलक भी हरयाणा में "मार दिया मठ", "हो गया मठ", "कर दिया मठ" की कहावतें चलती हैं। यह तो बुद्ध भक्ति में लीन बैठे जाटों द्वारा ध्यान और समाधी छोड़ लठ और हथियार उठा जब उन ध्यान भंग करने वालों के मुंह-तोड़े गए तब जा के टिके थे; यह लोग। और वही स्थिति आज आरएसएस की शह पर भोंपू बने लोगों ने हरयाणा में बना रखी है| जाट और सहयोगी जातियां जितना संयम खींच रही हैं, यह उतने ही भोंक रहे हैं। दाद है आप लोगों के संयम को वर्ना फरवरी में इन्होनें तो "बुद्ध से युद्ध" करने की पुरजोर कोशिश करी थी; शांति और भाईचारे की समाधी में बैठे हरयाणा पर युद्ध थोंपा था; परन्तु पन्द्रह-एक शताब्दी पहले वाले इतिहास की पुनरावृति हुई और जैसे ही जाट ने तीसरी आँख खोली, चार दिन में हौंसले पस्त गए।

खैर, समस्या यही तो है कि बॉर्डर पर दुश्मन चढ़ा आया तो इनको बुद्ध याद आया, वर्ना बॉर्डर के भीतर तो काँधे लाठियां धरवा के ऐसी परेडें निकालते हैं आरएसएस वाले, जैसे अभी-के-अभी बॉर्डर पर मोर्चा लेने निकल जायेंगे। कितना बेहतर होगा जो इनके हाथों में लाठियों की बजाये बुद्ध धरवा दें तो, हमारे पीएम साहब?

विशेष: पीएम साहब, मेरी पोस्ट को पाकिस्तान से युद्ध शुरू करने की जनता की इच्छा मत समझना, अपितु यह समझना कि नॉन-बीजेपी वोटर को "युद्ध से बुद्ध" बताने से पहले यही सब आरएसएस के कैडर को कैसे समझाऊं। क्योंकि कहीं दलितों पर अत्याचार, कहीं माइनॉरिटी पर अत्याचार, कहीं जातिवाद के जहर का बॉर्डर के भीतर का युद्ध तो यह लोग चलाये हुए हैं ना; जिसकी वजह से आपको "गुंडे" जैसे शब्दों वाले बयान देने पड़ जाते हैं। बाकी बॉर्डर की चिंता ना करें, उसको तो हमारी सेनाएं अच्छे से सम्भालना जानती हैं। आप बस यह "युद्ध से बुद्ध" की राह देश के भीतर ऊपर बताये वालों को सिखा दीजिये।

"म्हारे बल्धां की सूं" जिस दिन दिखाने भर को भी बुद्ध बन गया, उसी दिन से बीजेपी/आरएसएस वालों को मरोड़े लगने शुरू होंगे और मेरे अपनों को ही कहेंगे कि यह तो दलितों का धर्म है, इस जाट ने अपने-आप को समाज से गिरा के सही नहीं किया| जबकि हकीकत यह है कि जाट के डी.एन.ए. से कोई धर्म शत-प्रतिशत मैच करता है तो वह है ही बुद्ध धर्म|

तो भाई DONE, पीएम ने दो-चार रैलियों में और ऐसे ही बुद्ध का जिक्र किया और मैं बुद्ध बना| फिर मेरे नहीं अपने पीएम के जा के कान पकड़ना| क्योंकि फिर तुम ही "युद्ध से बुद्ध" की बजाये "बुद्ध से युद्ध" पर पलटी मारने में एक पल नहीं गंवाओगे|

और मेरा स्लोगन होगा, "या तो पीएम के मुख से राम-कृष्ण को भी किनारे व् इग्नोर करते हुए बुद्ध का गुणगान बांध करवाओ, विष्णु पुराण में बुद्ध को हिन्दू धर्म का गयारहवां अवतार लिखना बन्द करो, वर्ना मुझे शांति से "बुद्धम शरणम गच्छामि" होने दो|

जय यौद्धेय! - फूल मलिक

Monday, October 10, 2016

बम-पटाखों के ध्वनि व् वायु प्रदूषण से दूर, स्वास्थ्य को बढ़ाने वाले "गीण्ड-खुलीया के खेल" के मनाई जाती रही है "हरयाणवी सांझी"!

गीण्ड-खुलीया का खेल यानि हॉकी का हरयाणवी रूपांतरण| मौका मिले तो आज जरूर खेलिएगा और सांझी की दशमी की चांदनी भरी रात में तो जरूर खेल के देखिएगा| शीतलता, चांदनी के प्रकाश और गुनगुना मौसम, तबियत को ऐसा आल्हादित करेगा कि बस क्या कहने|

गींड-खुळीया के खेल की हरयाणवी शब्दों में कुछ व्याख्या:

आज का तो बेरा नहीं अक वें-हे चा रह-रेह सें अक नीह, पर एक-दशक-एक पह्ल्याँ तै, गाम के गोरयां पै गाम के गोरयां के इह्से आलम होया करदे अक आस्सुज की मोस गई नहीं, च्यांदण चढ्या नहीं अर चाँद की सीळी-सीळी सीळक आळी चांदणी म्ह गाभरुवों नें छड़दम मचाये नी| न्यूं हुलार उठया करदी जाणू तो उपरला भी धरती पै झुक-झुक देख्दा हो अक यू मेरे रचाये सुरग म्ह होण आळा नाच धरती पै क्योंकर माच रह्या सै|

सांझ होंदें, रोटी-टुक्के तैं निबटदें जित एक और नैं बहु-बेटी सांझी बनाण के लाहरया पड़ जांदी, ओडे-ए दूसरी औड नैं गाम के गाभरू-लड़धू-लोछर ठा-ठा आपणी-आपणी खुळीया लाठी (देशी हाकी, जो एक सबूत बन्या जोड़ की लाकडी की बणी हों सें) ले-ले पोहंच ज्यांदे गाम के गोरयां पै अर देर रयात ताहीं हे-ले-हे-ले, ले-ल्यो-ले-ल्यो, यु आया - ओ गया की रूक्क्याँ म्ह गींडां की ग्याँठ सी गांठण के इह्से झोटे-से भड्या करदे अक कुदरत भी एक टक देख्या करदी, अर इह्सी स्यांत हो ज्याया करदी अक जाणु चाँद नैं भी कहंदी हो अक रे इबै मत जाइये म्यरे बेट्याँ के खेल इबै थमे नहीं सें|

और यह सिलसिला आज सांझी के विदा करणे के दिन अपनी पराकाष्ठा पर होता आया और ऐसा झूम के मनता आया, जानूँ तो गाम-के-गाम, नगरी-की-नगरी बस गोरयां ऊपर आण डटी हों| घरां म्ह बस बड़े-बड़ेरे बचया करदे, नहीं तो गोरयां ऊपर सारे चैल-घाबरु और न्यून जोहडां के कंठारयाँ सुवासण छोरियां की स्वर-लहरी; बस मैंने तो इसतैं बड़ा सुरग आज लग ना देख्या ना सुणा|

इसी स्वर्ग सी खुशियों भरे दिन "सांझी" की आप सभी को सुबह कामनाएं| साथ ही दुर्गा-पूजा, दशहरा व् नवरात्रों के अंतिम दिन की भी सभी को शुभकामनाएं|

हाँ, आज रात की चांदनी में "गीण्ड-खुलीया" का खेल खेलना मत भूलना, खुलिया लाठी ना मिले तो बेशक हॉकी स्टिक से खेलना, परन्तु देखना तो जरूर आसुज्ज की चांदनी रात के इस आनंद का लुफ्त उठा के|

जय यौद्धेय! - फूल मलिक

बेचारे बकरे मिमियाते-गिरियाते रहे और जनेऊधारी एक-के-बाद-एक उनकी गर्दन उडाते रहे!

नीचे सलंगित जो विडियो है यह बिहार-बंगाल में दुर्गापूजा (दुर्गा काली का अवतार बताई जाती है) पर दी जाने वाली पशुबलि की 14.31 मिनट की विडियो है| सोचा कि गिन के देखूं कि कितने बकरे चढ़ाये जा रहे हैं, 4 मिनट तक तो गिने; फिर उबकाई सी आने लगी तो आगे नहीं गिन पाया| परन्तु इस 4 मिनट में 20 के करीब बकरे कटे, इस हिसाब से पूरी 14.31 मिनट में 60-70 बकरे तो जनेऊधारियों ने जरूर काट फेंके होंगे| यह विडियो पिछले साल की दुर्गा पूजा का है, ज्यादा पुराना नहीं है|

अभी पिछले दिनों बकरीद पर बड़ा शोर हो रहा था, कोई ढाका की खून से सनी गलियों की फोटोशॉप की फोटो सोशल मीडिया पर वायरल किये हुए था| इसमें उनको भी ढूंढता रहा कि खुद तो क्या बलि देते होंगे, किसी न किसी कसाई को बुलाते होंगे| परन्तु अंत तक निराशा ही हाथ लगी, जब हर तरफ सिर्फ जनेऊधारी ही दिखे|
कोई बुरा माने तो 70 बार माने, परन्तु एक सच्चाई जरूर कहूंगा कि भारत में जो खापलैंड यानी जाटलैंड है ना, उस पर यह कुकर्म अभी तक तो होते नहीं थे| परन्तु जिस बेढंगे ढंग से एक जमाने में मूर्ती-पूजा विरोधी नीति के लिए जाने-जाने वाले जाटों में बहुतेरों पर इस अंध्भक्ति का जो मोहपास डला पड़ा है, इससे संशय घेरने लगा है कि कहीं आने वाले समय में यह कुकर्म हमारे इधर भी पैर ना पसार लेवें|

खापलैंड की नई नेटिव पीढ़ी के आगे चैलेंज है, इन पशुबलि के त्योहारों से अपनी धरती को बचाये रखने का| यह जो जाट बनाम नॉन-जाट का हव्वा है ना, इसके एजेंडा में एक यह भी मिशन है कि इन ढोंग-पाखंडों के प्रखरतम व् धुर्र विरोधी जाटों को तो उलझाये रखो जाट बनाम नॉन-जाट में और साथ-साथ दूसरी तरफ से फैला दो पूरी जाटलैंड पर इन पाखंडों को, नराधमी करतूतों को, पिशाचिनी पध्दतियों को|

मैं बड़े गर्व के साथ कहता आया हूँ कि अगर आज खापलैंड पर कोई देवदासी नहीं पाई जाती तो इन नराधमों व् पिसाचों पर जाटों और खापों की तार्किकता व् उससे भी ऊपर लठ के भय के कारण| अगर आज भी जाटलैंड पर वृन्दावन को छोड़कर विधवा आश्रम ढूंढें से भी मुश्किल से मिलते हैं तो सिर्फ जाटों की वजह से|

परन्तु अपने ही डीएनए के साथ पशोपेश में चल रहे जाट को पता नहीं, यह बात कब समझ में आएँगी और कब वह अपने "जाट जी" और "जाट देवता" वाले रूप को फिर से अख्तियारेगा|

वैसे एक बात निचौड़ की यह भी है कि यह लोग इन ढोंग-पाखंडों को दो वजहों से रचते हैं; एक तो मानसिक भय के जरिये अपना प्रभाव कायम रखने के लिए और दूसरा इनसे आमदनी अर्जित करने के लिए| वर्ना ऐसा कौनसा भगवान्/भगवती होगा/होगी दुनिया का/की जो अपने ही द्वारा रचे बकरों को यूँ मारा-काटा जाता हुए देख के खुश होता/होती होगा/होगी?

Video Source: https://www.youtube.com/watch?v=j3TGrWXW0cs

जय यौद्धेय! - फूल मलिक

"जय यौद्धेय" का उदघोष क्यों करना/बोलना चाहिए!

दरअसल "यौद्धेय" (यौद्धेया - स्त्रीलिंग) शब्द उन सूरमाओं, हुतात्माओं, वीरांगनाओं के लिए कहा गया है जो सर्वखाप की विभिन्न लड़ाइयों में अपनी कुर्बानिया-बलिदान और जौहर करते हुए वक्त-दर-वक्त फना होते रहे हैं| सर्वखाप से यह शब्द जुड़ा है इसकी सिर्फ यही खासियत नहीं है| इसकी खासियत यह भी है कि यह हिन्दू-मुस्लिम-सिख हर धर्म से जुड़ा हुआ है| यह हिन्दू धर्म की 36 बिरादरी से जुड़ा हुआ है| यानी कि यह शब्द धर्म-सम्प्रदाय-वर्ण-जाति से परे है, स्वच्छन्द है, स्वतन्त्र है| 

जातिवाद सिर्फ एक जगह नहीं था और वो था "यौद्धेय संस्कृति" की परिपाटी| जिसमें यौद्धेय होने का सिर्फ एक ही पैमाना होता था वो होती थी व्यक्ति वीरता, समाज-संस्कृति के प्रति निष्ठां और न्यायाप्रियता| तुरन्त-पां न्याय मिलता था, फ्री-ऑफ़-कॉस्ट मिलता था और सबको मिलता था; और आज भी न्याय मिलने की यही परिपाटी है जिस तन्त्र में वो है सर्वखाप| सर्वखाप समाज को अपने अंदर की कमियों को एडिट करते हुए, अपनी यह पहचान, अपनी यह यौद्धेय संस्कृति जिन्दा रखनी होगी, वर्ना मानवता जैसा सब खत्म समझो|

कई लोग सनातनियों और यौद्धेय संस्कृति को मिलाने की कोशिश करते हैं, ऐसे लोग ऐसा करते वक्त यह क्यों भूल जाते हैं एक मूर्ती पूजा करता है और दूसरा उसका विरोधी होने के सिद्धांत पर बना है|

यह शब्द "गॉड गोकुला" की कुर्बानी के बाद औरंगजेब के दरबार में सुलह करने हेतु जाने वाले परन्तु कुर्बानी दे आने वाले उन 21 यौद्धेयों का स्मरण करवाता है जिनमें 11 जाट, 3 राजपूत, 1 रोड, 1 ब्राह्मण, 1 सैनी, 1 पठान खान, एक गुज्जर, एक त्यागी, एक वैश्य थे|

यह शब्द 1857 की क्रांति को हिन्दू-मुस्लिमों द्वारा मिलके लड़ने का प्रतीक है| बाबा शाहमल के जौहर का प्रतीक है|

यह शब्द दिल्ली के मुहम्मद तुगलक तक को सरेंडर करवा लेने वाले तैमूरलंग के 1398 में दांत खट्टे कर उसको भारत से भगोड़ा बनाने वाली उस सर्वखाप आर्मी के जौहर का प्रतीक है जो जाट राजा देवपाल के कहने पर बुलाई गई थी, जिसके सेनापति दादा जोगराज जी पंवार थे, उपसेनापति दादा हरवीर सिंह गुलिया जी व् दादा धूला भंगी बाल्मीकि जी थे| जिसमें दादीराणी रामप्यारी गुजरी के नेतृत्व में 40000 यौद्धेयायों की आर्मी भी रशद-पानी का प्रबन्ध करने के साथ-साथ हथियार ले भी लड़ी थी|

और इसी तरह के दर्जनों और खाप की लड़ाइयों के उदाहरण हैं, जहां सिर्फ वीरता पैमाना रही, जाति-धर्म इनसे परे रहा|

सनद रहे, यौद्धेय शब्द और यौद्धा शब्द दोनों अलग-अलग हैं| दूसरी बात जब तक सिख धर्म नहीं बना था तो पंजाब में भी खाप होती थी, जैसे कि 35 जाट खाप फ़िरोज़पुर; परन्तु सिख धर्म आते ही वहाँ खाप ने "मिशल" का रूप ले लिया, जो कि आज भी चलती हैं| उदाहरण के तौर पर फुलकिया मिशल, यह सरदार फूल सिंह के नाम से चली और आगे चल जींद-नाभा-पटियाला इसकी रियासतें बनी|

अत: "यौद्धेय" शब्द बड़ा ही सोच-विचार कर धारण किया गया शब्द है, जो धर्म-जाति-वर्ण-सम्प्रदाय से रहित सच्ची-सूची वीरता व् शौर्यता का प्रतीक है|

जय यौद्धेय! - फूल मलिक

1761 में पूना पेशवाओं को हराने वाला अहमदशाह अब्दाली, 1757 में एक जाट की कूटनीति के आगे हुआ था धराशायी!

यह किस्सा प्रोफेसर गण्डासिंह ने अहमदशाह अब्दाली पर लिखी अपनी पुस्तक में क़दरतुल्लाह के ग्रंथ ‘जाम-ए-जहानुमा’ के पेज 181 से लिया है|

आक्रांता अहमदशाह अब्दाली ने भारत में लाखो लोगो का कत्लेआम किया| जब दिल्ली पर कब्ज़ा करने के बाद, अब्दाली मथुरा की तरफ बढ़ा तो चौमुहा गाँव में 5000 जाटों की सेना ने अब्दाली से युद्ध किया| अब्दाली यहां से वृंदावन गया और हज़ारो लोगो का क़त्ल किया| नई निज़ामी के अनुसार 7 दिन तक यमुना का पानी खून से लाल रहा| अब्दाली ने महावन में कैम्प लगाया, उसने देखा की भरतपुर का राजा उससे डरा नहीं|

27 मार्च 1757 को अहमदशाह अब्दाली ने लोहागढ़ (भरतपुर) को धमकी देने के लिए एक अफगान अधिकारी को एक धमकी भरे पत्र के साथ सूरज-सुजान (महाराजा सूरजमल) के पास भेजा कि अगर उसने एक करोड़ रुपया नजराना पेश करने में और टालमटोल की तो डीग, कुम्हेर, वैर और भरतपुर के उसके चारों दुर्ग भूमिसात करके धूल में मिला दिए जायेंगे| और उसके प्रदेश की जो दुर्गति होगी, उसकी पूरी जिम्मेदारी उसी की होगी। किन्तु जाट राजा भयभीत नहीं हुआ। उसने कूटनीतिक शब्दों में उत्तर भेजकर अपने साहस एवं सूझबूझ का परिचय दिया।

अपने विशाल कोष, सुदृढ़ दुर्गों; असंख्य सेना और भारी मात्रा में युद्ध सामग्री के कारण महाराजा सूरजमल ने अपना स्थान नहीं छोड़ा और अपने को युद्ध के लिए तैयार किया।

सूरज-सुजान ने अब्दाली के दूतों को कहा - “अभी तक आप लोग भारत को नहीं जीत पाये हैं। यदि आपने अनुभवहीन बच्चे (इमाद-उल-मुल्क गाजीउद्दीन, जिसका दिल्ली पर अधिकार था) को अपने अधीन कर लिया है तो इसमें घमंड की क्या बात है? अगर आप में सचमुच कुछ दम है, तो मुझ पर चढ़ाई करने में इतनी देर किसलिए?”

शाह जितना समझौते की कौशिश करता गया, उतना ही जाट का अभिमान और दृढ़ता (अक्खड़पन) बढ़ती गयी। उसने कहा, “मैंने इन किलों पर बड़ा धन लगाया है। यदि शाह मुझसे युद्ध करे, तो यह उसकी मुझ पर कृपा होगी| क्योंकि तब भविष्य में दुनिया यह याद रख सकेगी कि एक बादशाह बाहर से आया था और उसने दिल्ली जीत ली थी, पर एक साधारण जाट-जमींदार के विरुद्ध वह लाचार हो गया था।”

जाटों के किलों की मजबूती से डरकर शाह वापस चला गया। और दिल्ली जाकर मुहम्मदशाह की पुत्री के साथ स्वयं का तथा आलमगीर द्वितीय की पुत्री के साथ अपने पुत्र का विवाह करके और नजीब खान को भारत में अपना सर्वोच्च प्रतिनिधि नियुक्त करके वह कन्धार लौट गया।”

कुछ दिग्भर्मित इतिहासकार महाराजा सूरजमल और अब्दाली के मध्य 5 लाख रुपए का समझौता हुआ बताते हैं, पर सूरजमल ने 1 पैसा भी अब्दाली को नहीं दिया| पेशवा दफ्तर, xxi, पत्र iii; भाऊ बख़र के अनुसार सूरजमल ने अब्दाली को एक पैसा भी नहीं दिया बल्कि पानीपत के युद्ध में अब्दाली से हारे मराठो को भी अब्दाली के खिलाफ सहायता दी| ऐसे अफलातून जाट को दुनिया नमन करती हैं। सभी प्राप्त वृत्तान्तों के अनुसार अब महाराजा सूरजमल हिन्दुस्तान में सबसे धनी, सबसे बुद्धिमान राजा था और वही एक ऐसा था, जिसने पेशवाओं को ‘चौथ’ और ‘सरदेशमुखी’ न देते हुए भी उनसे अच्छे सम्बन्ध बनाये रखे। अब्दाली को उसने चकमा दे दिया था।

प्रेरणा: जाट पुरखों के ऐसे देदीप्यमान किस्से, उत्साह और ऊर्जा देते हैं कि जब इतने बड़े-बड़े सुरमा जाटों को नहीं झुका सके तो इन "जाट बनाम नॉन-जाट" फैलाने वालों से क्या डरना| रो-पीट के बैठ जायेंगे अपनेआप| बस वो "कुल्हड़ी में दाने, कूद-कूद के खाने" वाला किस्सा है इनका; इनकी कुल्हड़ी के दाने खत्म करवाने में इनका सहयोग करो और आगे के लिए सीख ले लो कि इनकी कुल्हड़ी में उतने ही दाने डालो, जिससे यह फुदकें नहीं|

सोर्स: मानवेन्द्र सिंह तोमर

जय यौद्धेय! - फूल मलिक

Friday, October 7, 2016

मैं जो कर रहा हूँ उसको जातिवाद नहीं, जातिगत प्रेम कहते हैं!

और मैं यह क्यों, कब और किसकी वजह से करने लगा हूँ इसकी व्याख्या यह रही।

2012 में सम्पूर्ण हरयाणवी जातियों व् उनके आपसी सहयोग से बनने वाले हरयाणवी कल्चर को दुनियां के सामने निष्पक्ष रूप से लाने के लिए मैंने एक वेबसाइट लांच की थी "निडाना-हाइट्स", जो कि निर्बाध रूप से आज भी चल रही है। शायद मैं पहला इंसान रहा होंगा जिसने समाज में जातिसूचक शब्दों के प्रयोगों बारे निष्पक्षता से लेख लिखा और इनकी आलोचना की। ब्राह्मण को "पण्डा", "पंडोकली वाला", "ताता खानिया" कहने पे ऐतराज जताया; हिन्दू अरोड़ा/खत्री को "रेफूजी", "भाप्पा", "झंगी", "पाकिस्तानी" कहने पे ऐतराज जताया; जाट को "सोलह दूणी आठ" कहने पे ऐतराज जताया; बनिए को "किराड़", "मूंजी" कहने पे ऐतराज जताया, दलित/ओबीसी को "कमीन", "कांदु', "डेढ़", "गण्डल" कहने पे ऐतराज जताया। इसी से सम्बन्धित निडाना-हाइट्स पर चार साल पुराना लिखा मेरा यह आर्टिकल है: http://www.nidanaheights.net/EHhr-marmmt.html

इसी बीच आती है यह "हिन्दू एकता और बराबरी" के ठेकेदारों की 2014 में सेण्टर और हरयाणा में सरकार। आते ही "जाट बनाम नॉन-जाट" पसार दिया। वैसे तो मैं जाट हूँ, किसी भी प्राकृतिक-अप्राकृतिक विपदा-आपदा से लड़ने-भिड़ने-सुलटने में सक्षम हूँ। परन्तु साथ ही मैं लोकतान्त्रिक भी हूँ और लोकतंत्र में व्यक्ति-विशेष से लेकर, परिवार-कुनबा, गाँव-गुहांड, जाति-सम्प्रदाय सबकी छवि, रेपुटेशन और प्रभाव मायने रखता है। और इसकी मुझे इन निखट्टुओं के आने से पहले चिंता नहीं थी।

परन्तु फिर जब 35 बनाम 1 के नारे, वो भी खट्टर, चोपड़ा, ग्रोवर जैसे उन समाजों के नेताओं के मुंह से सुने, जिनको कि मैं "रेफूजी", "भाप्पा", "झंगी", "पाकिस्तानी" कहने पर, ओबीसी वाले सैणी, आर्य जैसों को "कमीन", "कांदु' कहने पर विरोध का झंडा अपने लेखों और नेटवर्कों में उठाया करता था तो लगा कि भाई कुछ तो गड़बड़ है। ऐसा करो, इनको बाद में सम्भालना, पहले इस "जाट बनाम नॉन-जाट" की फैलाई जा रही खाई से अपने समाज की छवि को सुरक्षित कर, सुरक्षित निकाल। यहां तो उल्टा ही हो चला है। कहाँ तो मुम्बई में ठाकरे-परिवार बाहर से वहाँ आकर बसने वालों को लताड़ता है और यहां तो जाट बाहर से आकर बसने वालों से प्रेम-मुलाहजा निभाने के बाद भी लताड़ा जा रहा है तो चिंता हुई।

ऐसे में मेरे पास दो राह थी, या तो मैं इन द्वारा जाट को बदनाम किये जाने पर इनके समाजों को भी इन्हीं के तरीके से बदनाम करने वाला "जातिवाद" का मार्ग चुनूँ, या फिर जब तक यह "जाट बनाम नॉन-जाट" चलता है तब तक सिर्फ अपने समाज के पॉजिटिव को अपने लेखों के जरिये समाज के आगे लाना शुरू करने का "जातिगत-प्रेम' का मार्ग चुनूँ। और मैंने "जातिगत-प्रेम" के मार्ग को चुना। और यह तब तक रहेगा जब तक यह जाट बनाम नॉन-जाट समाज में चलता है या कोई मेरे साथ आगे बढ़ के इसको खत्म करवाने बाबत कार्य नहीं करता है।

और मेरा "जातिगत-प्रेम" का मार्ग मानव-धर्म के अनुसार सही है। मानव धर्म कहता है कि जब आपके शरीर में कोई विपदा हो तो आपको पहले वह दूर करनी चाहिए। इसी तरह जब आपके समाज पर कोई विपदा हो तो पहले उसको दूर करना चाहिए। और मैं वही कर रहा हूँ। मुझे नहीं लगता कि जो जातिवाद और जातिगत प्रेम में अंतर समझता होगा और अपनी जाति से प्रेम करता होगा, वह मेरे मार्ग को गलत कहेगा। और मेरे से जातिगत प्रेम करने वाले को डरने की भी जरूरत नहीं। मेरे से सिर्फ वही डरेगा, जो जातिवादी होगा।

जय यौद्धेय! - फूल मलिक

Thursday, October 6, 2016

आओ राष्ट्रभक्ति पर राजनीति करें!

वो कहते हैं कि हम सबसे बड़े राष्ट्रभक्त हैं और मैं कहता हूँ कि मैं सबसे बड़ा राष्ट्रभक्त हूँ; क्योंकि:

1) वो भारत माता की जय बोलता-बोलता, अपनी धरती माँ की उपजाऊ धरती का अनादर करने लग जाता है और अपने किसानों की क्षमता का उपहास| और पहुँच जाता है नाइजीरिया दालें उगवाने| क्योंकि मैं अपनी धरती माँ की उपजाऊ क्षमता और अपने देश के किसान की क्षमता पर यकीन करता हूँ इसलिए उनसे ही दालें उगवाने का समर्थक हूँ, तो बोलो हुआ ना उनसे बड़ा राष्ट्रभक्त?

2) वो "मेड इन चाईना" का विरोध करते-करवाते और 'मेक-इन-इंडिया' की पैरवी करते-करते, एक मूर्ती (सरदार पटेल का स्टेचू) तक चाईना से ही बनवा बैठता है| मैं होता तो देश की लोहे की सबसे पुराणी टाटा जैसी कंपनी को इसको बनाने की कहता और साथ ही कहता कि भले 2-4 साल फालतू लग जाएँ, परन्तु बाहर से उधारी मत लेना, "मेक-इन-इंडिया" का पूरा सेट यहीं रेडी करके यह मूर्ती यहीं देश में ही बनाना| परन्तु उसने जिस कंपनी को ठेका दिया, उससे यह भी नहीं पूछा कि वो इसको कैसे बनाएंगे| तो मैं हुआ ना उससे बड़ा और जुमलेबाजी से रहित सच्चा राष्ट्रभक्त?

3) वो और उसका पैतृक-संगठन कहते हैं कि हम "एकता और बराबरी का हिन्दू राष्ट्र" बनाएंगे| यह कोरा जुमला है छद्म राष्ट्रवाद है| क्योंकि ऐसा होता तो 1985 से मुम्बई में बाल ठाकरे और अब राज ठाकरे के हाथों कभी भाषावाद तो कभी क्षेत्रवाद के नाम पर पिटते चले आ रहे उत्तरी भारतीय हिंदुओं की हिंदुओं ही के द्वारा पिटाई के खिलाफ आवाज उठाते| क्योंकि उसके पैतृक संगठन का हैडकवाटर भी तो उसी राज्य में हैं? तो जब वो मुम्बई जैसे शहर में ही हिंदुओं के हाथों हिंदुओं का पिटना नहीं रोक सकते तो सुदूर छत्तीसगढ़-आंध्र जैसे राज्यों में कहीं हिन्दू जातिवाद की वजह से तो कहीं हिन्दू धर्म की वजह से छूत-अछूत व् देवदासी के रूप में उत्पीड़ित होते दलित हिन्दू की क्या ख़ाक आवाज उठाएंगे| लेकिन मैं इनके लिए आवाज उठाने की बात करता हूँ, इसलिए मैं इनसे बड़ा राष्ट्रभक्त हूँ|

4) जबसे सेण्टर और हरयाणा में इनकी सरकार आई है, तब से इन "हिन्दू एकता और बराबरी" के जुमलेबाजों का ही फैलाया जाट बनाम नॉन-जाट सड़कों पर पसरा पड़ा है| एक ऐसे राज्य में जिसने मुम्बई से भी ज्यादा हिन्दू माइग्रेशन देखा है| मुम्बई में तो माइग्रेशन मात्र 40-50 साल पुराना है, जाट बाहुल्य हरयाणा में तो यह सदियों पुराना है| वैसे तो पानीपत की तीसरी लड़ाई से भी पुराना, परन्तु उदाहरण के तौर पर इस लड़ाई के बाद से उठा लेते हैं| 1761 में अब्दाली से हारे हुए (बाल ठाकरे और राज ठाकरे जैसों को समझना चाहिए कि माइग्रैन्टस उनके ही यहां नहीं आते, उन वाले भी कहीं जा के बसे हुए हैं) मराठे भाईयों को अपने यहां बसाया, 1947 में हिन्दू अरोड़ा/खत्री कम्युनिटी को अपने यहां बसाया, 1984 में जब पंजाब में आतंकवाद छिड़ा तो वहां से निकल के आये हिन्दू अरोड़ा/खत्री को फिर से यहां बसाया, 1992 के दौरान ही कश्मीर में कश्मीरी हिंदुओं (मैं जातिवादी नहीं, इसलिए कश्मीरी हिन्दू कहूंगा, कश्मीरी पंडित नहीं) को अपने यहां बसाया (आ के देख लो कश्मीर का माइग्रेटेड हिन्दू सबसे ज्यादा हरयाणा में ही पनाह लिए हुए है), इसी दौरान बाल ठाकरे और राज ठाकरे के जुल्मों से पीड़ित बिहार-बंगाल-आसाम-पूर्वी यूपी के हिन्दू को ठाकरों के डर से बचने हेतु व् बिना जिरह के रोजगार के लिए जाट बाहुल्य हरयाणा, पंजाब व् वेस्ट यूपी ही सेफ-हेवन लगे और इधर माइग्रेट हुए| तो बताओ इतने लम्बे काल से इतनी ज्यादा माइग्रेशन देखने-झेलने के बाद भी क्या एक बार भी भाषावाद-क्षेत्रवाद हमने हमारे यहां उठने दिया? तो हरयाणवी ज्यादा राष्ट्रभक्त हुए या बाल ठाकरे और राज ठाकरे व् हिन्दू यूनिटी की एकता और बराबरी की बात करने वाले (जिन्होनें सरकार आते ही हिन्दू बाहुल्य हरयाणा में ही जाट बनाम नॉन-जाट पसार दिया)?

खैर इन ऊपर दिए चार उदाहरणों की भांति और भी उदाहरण हैं, परन्तु "राष्ट्रभक्ति" शब्द पर राजनीति कैसे हो की शुरुवाती चर्चा के लिए इतने उदाहरण काफी होने चाहियें|

इसलिए आओ राष्ट्रभक्ति पर खुलकर राजनीति करें और छद्म राष्ट्रभक्तों को इस मुद्दे पर कांफ्रण्ट करें और ओपन डिबेटोँ में आमन्त्रित करके इनके खामखा के हव्वे की हवा निकालें| जब तक इनको इस शब्द के ऊपर चैलेंज करना शुरू नहीं किया जायेगा, यह ऐसे ही फुदकेंगे|

जय यौद्धेय! - फूल मलिक

"यूनियनिस्ट मिशन वाले सिर्फ एक धर्म विशेष को टारगेट करते हैं' की भ्रान्ति दूर करें!

इस सवाल का मैंने इससे पहले भी दो बार जवाब दिया है। मिशन सिर्फ मंडी-फंडी की ढोंग-पाखंड-आडम्बर-सूदखोरी नीतियों के विरुद्ध अलख जगाता है। मिशन में जो जिस धर्म से आता है वो अपने यहां के मंडी-फंडी की आलोचना भी करता है और गलत बात का विरोध भी। अब क्योंकि भारत में एक धर्म कहो या वर्ग की जनसँख्या 80% के करीब है तो लाजिमी है कि मिशन में 80-85% के अनुपात में उसके सदस्य भी होंगे। तो जब वो 80-85% अपने धर्म के मंडी-फंडी पर बोलते दिखेंगे तो सबको लगेगा कि यह तो सिर्फ एक ही धर्म को टारगेट कर रहे हैं; जबकि ऐसा नहीं है। मिशन में जो 15-20% अन्य-धर्मी हैं वो भी अपने-अपने धर्मों के ढोंग-पाखंड पर कार्य करते हैं। और क्योंकि यूनियनिस्ट मिशन एक धर्म-निरपेक्ष मिशन है इसलिए अंतर्धार्मिक मुद्दे पर दूसरे धर्म वाले के मामलों पर उसी धर्म का बन्द बोलता, कार्यवाही करता है। यानि जो मुद्दा जिस धर्म का है, मिशन का उस धर्म का कैडर उस पर कार्य करता है। अंतर्धार्मिक जिम्मेदारियाँ मिशन नहीं देता।

सनद रहे, यूनियनिस्ट मिशन किसी धर्म विशेष के लिए नहीं है, यह सिर्फ और सिर्फ किसान-मजदूर-दलित के आर्थिक-सामाजिक-शैक्षणिक हितों, मुद्दों व् समरसता की बात करने के लिए है।

यह मिशन उन सर छोटूराम जी की विचारधारा पर चलता है जिन्होनें धर्म के आधार पर पंजाब के टुकड़े करने की बात करने वाले मोहम्मद अली जिन्नाह तक को जरूरत पड़ने पर यूनाइटेड पंजाब से तड़ीपार करने में जरा सी भी हिचकिचाहट नहीं दिखाई थी। और वहीँ दूसरी तरफ धर्म से ऊपर उठकर समाज-देश हित की बात करने वाले मुस्लिम सर सिकन्दर हयात खान व् सर फज़ले हुसैन के साथ मिलकर पंजाब की सरकारें चलाई। उनके आगे यही विचारधारा सरदार प्रताप सिंह कैरों (छोटे छोटूराम), चौधरी चरण सिंह व् बाबा महेन्द्र सिंह टिकैत ने बढ़ाई, उनकी इसी विचारधारा की झलक सरदार भगत सिंह की लेखनी व् कार्यशैली में दिखती है और अब इसी को लेकर मिशन, भाई मनोज दुहन की प्रेरणा व् नेतृत्व में अपनी राह पर अग्रसर है।

मैं भलीभांति जानता हूँ कि मिशन का हिंदी जाट कैडर जरूर "जाट-पुरख धर्म" की बात करता रहता है। इस पर मिशन की आलोचना करने वाले यह बात स्पष्ट तौर पर जान लें कि खुद आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत लन्दन से ले के कई स्थानीय सभाओं में हिन्दू कोई धर्म है इस बात से साफ़ इंकार कर चुके हैं, दूसरा सुप्रीम कोर्ट तक हिन्दू धर्म के होने से इंकार कर चुका है। तो ऐसे में बेहतर है कि ऐसे लोग पहले स्वधर्म को भारतीय सविंधान और कोर्ट-कानून में पहचान दिलवाएं और फिर बात करें।

मिशन के बाकी हिंदी जाट कैडर का तो मैं कह नहीं सकता, परन्तु मैं इतना स्पष्ट जरूर हूँ कि मैं उस ब्राह्मण का आदर करता हूँ जो मुझे ऋषि दयानंद की भांति "जाट जी" और "जाट देवता" कह कर मेरा आदर करता है| परन्तु जो ब्राह्मण यह सोचता हो कि वह मुझसे श्रेष्ठ है, ऐसे ब्राह्मण को मैं मान्यता नहीं देता। मैं वो जाट हूँ, जिसके बराबर बैठ के ब्राह्मण बात करेगा, बराबर का साथी समझेगा तो साथ हूँ अन्यथा वो अपने राजी और मैं अपने राजी। उसका अपनी श्रेष्ठता का अभिमान है तो मेरा अपना अभिमान है, मैं उसके का आदर करूँ और वो मेरे का करे, सिंपल फंडा है, इसमें कोई बड़ी घुमाने वाली बात नहीं।

जय यौद्धेय! - फूल मलिक