Sunday, August 9, 2015

जींद शहर के 'श्री दादा नगर खेड़ा' से परिचय!


शहर के मशहूर 'सफीदों गेट' (जहाँ से जींद-सफीदों रोड का उद्भव होता है) से नई सब्जी मंडी की तरफ करीब 100 मीटर चलने पर बाईं और स्थित हैं जींद शहर के 'श्री दादा नगर खेड़ा'। ठीक यहीं पर सड़क के बीचों-बीच एक छोटा-सा डिवाइडिंग पार्क है, जहाँ से मुख्य सड़क नरवाना की ओर 90 डिग्री पर बाएं मुड़ जाती है और एक सीधी नई सब्जी मंडी को जाती है; इसी लैंडस्केप के सफीदों-गेट की तरफ वाले छोर के बिलकुल बाईं ओर इसी सड़क के मुहाने पर है यह धाम। धाम पे ऊपर लिखा भी हुआ है 'दादा खेड़ा'।

बिल्कुल अपने ट्रेडिशनल प्रारूप में सफेद रंग का वर्गाकार कमरे के ऊपर गोल-गुंबद वाला (जैसा कि खापलैंड के हर गाँव में पाया जाता है) धाम 'श्री दादा नगर खेड़ा' उपस्थित है जींद शहर के केंद्र में।

बहुत लेख पढ़े, किसी में मिलता है कि जींद जयंती नगरी है, किसी जयंती देवी का बसाया हुआ है। कोई लेखक इसको पांडवों से जोड़ता है तो कोई किसी से। परन्तु खापलैंड के शहर में खापलैंड की परम्परा से बसाये जाने वाले नगर-ग्राम की इतनी बड़ी निशानी होते हुए भी कोई यह कहते नहीं दिखा कि जींद भी पहले ऐसे ही तो बसाया गया था जैसे एक आम हरयाणवी गांव या नगर बसता है। और शहर के ऐतिहासिक और सबसे पुराने हिस्से में 'दादा खेड़ा' का होना इस बात को प्रमाणित करता है कि जींद को बसाने वाले सबसे पहले यहाँ बसे और हरयाणवी परम्परा के अनुसार बसासत की नींव हेतु सबसे पहले यहाँ 'दादा खेड़ा' स्थापित किये गए और फिर इनके इर्दगिर्द जींद बसा।

मैं नेटिव हरयाणवी दोस्तों से अनुरोध करूँगा कि अगर आप शहर आ गए हैं और यहां बस गए हैं तो अपने गाँव ना जा सकने की परिस्थिति में किसी और जगह पूजा-पाठ करने की बजाये अपनी शुद्ध परम्परा के अनुसार इस धाम पर पूजा करें। ताकि हमारी संस्कृति शहर में रहते हुए भी यूँ की यूँ फलीभूत होती रहे। होती रहे क्या, हमारे पुरखों ने बिना किसी झिझक फलीभूत रखी हुई थी; यह तो हम ही पता नहीं ऐसे क्या छद्म-मानव हुए हैं कि इसको अपना कहने और इसको प्रमोट करने में झिझकते देखे जाते हैं।

साथ ही खापलैंड के अन्य शहरों में रहने वाले नेटिव हरयाणवियों से अनुरोध करूँगा कि आप भी अपने-अपने शहरों में इस धाम को ढूंढ कर जनता को जरूर चिन्हित करवावें। मुझे दृढ विश्वास है कि जींद की ही तरह खापलैंड के बाकी शहर भी 'दादा खेड़ा' परम्परा पर ही बसे हैं।

जय यौद्धेय! - फूल मलिक

No comments: