Thursday, July 25, 2019

पाश्चात्य सभ्यता इतनी समृद्ध-संम्पन-खुशहाल-विकसित क्यों है?

क्योंकि यह उन बातों के प्रैक्टिकल करते हैं, जिन पर हमारे समाज या कहिये देश में सिर्फ थ्योरी चल रही हैं वह भी आज भी| हमारे वालों को यह कथावाचकों-जागरण आदि वालों के मुख से थ्योरी ही पसंद हैं, प्रैक्टिकल की बात करो तो औकात एक झटके में "सांप की केंचुली" की भांति धरा पर| क्या प्रक्टिकल्स हैं जो पाश्चात्य सभ्यता को इतना खुशहाल बनाते हैं, कुछेक इस तरह:

1) कोई काम छोटा-बड़ा नहीं होता, सब समान होते हैं - यहाँ पुजारी से ले व्यापारी, कर्मचारी से ले जमींदारी, मजदूरी से ले जमादारी; सबकी न्यूनतम आय वह भी बराबर अनुपात में ही फिक्स है| हम इंडिया में कितना देते हैं काम वाली बाई को? पूरे दिन का 5 से ले 10 हजार हद मार के? कोई 40-50 हजार भी कमाता हो तो काम वाली बाई आराम से अफ़्फोर्ड कर ले| लेकिन यहाँ, न्यूनतम शुरुवात ही 1500 यूरो यानि लगभग 1 लाख 10 हजार से शुरुवात होती है, यानि अगर आप 3000-4000 यूरो भी महीने के कमाते हो तो दस बार सोचना पड़ता है बाई रखने से पहले| इसको बोलते हैं वाकई में काम-छोटा बड़ा नहीं होना| प्लम्बर हो या कोई एमबीए किया हुआ प्रोफेशनल, शुरुवाती स्टार्ट सबका लगभग एक अनुपात का, यह नहीं कि प्लम्बर करियर शुरू कर रहा है 4000-5000 से और एमबीए वाला 60-70 हजार या लाखों से| वैसे इंडिया में आज के दिन सबसे कम कमाने वाला किसान है, मजदूर जितनी दिहाड़ी बराबर बचत नहीं उसको, खासकर अगर 2-4 एकड़ की जोत वाला है तो| नए जमाने के दलित तैयार हो रहे इंडिया में जिनका नाम है "किसान"| पता नहीं यह लोग बने किस मिटटी के हैं कि इतने घाटे सह के भी खेत जोतते ही जाते हैं| बड़ी जोत ना हो तो खेती करना सबसे बड़ा अभिशाप आज के दिन इंडिया में| परन्तु इसकी सरकारी व् किसान की खुद की भी, दोनों तरह की वजहें हैं, उस बारे फिर कभी|

2) पुलिस-एडमिनिस्ट्रेशन की है सर्विस की जॉब एंट्री लेवल यानि कांस्टेबल लेवल से शुरू होती है| कोई भी डायरेक्ट एसपी/डीसी नहीं बन सकता यहाँ| चौक-चौहारों पर कांस्टेबल वाला डंडा सबको लहराना पड़ता है पहले|

3) पादरी की पोस्ट्स पर कोई जातीय-वर्णीय बैरियर प्रैक्टिकल में ही नहीं है| असल तो यहाँ वर्ण सिस्टम ही नहीं तो वर्णवाद आना ही कहाँ से था| यह है प्रैक्टिकल बराबरी|

4) जेंडर सेंसिटिविटी में तो फ्रांस जैसे देश को पूरे विश्व की सभ्यता की माँ बोला जाता है| सबसे ज्यादा जीती हैं यहाँ की औरतें| सबसे ज्यादा हक व् खुलापन है औरत को यहाँ| इसके कहीं आधे-पद्धे भी मैंने ऐसा प्रैक्टिकल में देखा है तो इंडिया की "उदारवादी जमींदारी" जातियों के यहाँ देखा है, अन्यथा पूरे इंडिया में औरतों को यहाँ की अपेक्षा 10% भी आज़ादी नहीं 99% औरतों को|

अब कम-से-कम वह लोग यहाँ के प्यार के इजहार में इस्तेमाल होने वाले खुलेपन पर ही सारी तोहमत चेप कर पल्ला ना झाड़ लेना कि तुम ही इनसे श्रेष्ठ हो| ऐसे-ऐसे चिकलाते चिघनान काटते हमने ओटडे कूद, उन्हीं रिश्ते-मर्यादाओं में मुंह मारते देखे जिनको समाज के आधार-स्तम्भ बताया| और यहाँ वालों में आपस   में इतना संयम व् डिसिप्लिन है कि कोई जोड़ा किस कर रहा हो तो सबको अपने काम से काम है, कोई ध्यान भी नहीं देता कि कौन जोड़ा गले मिला या किसने किस किया|
 
कमाल की बात तो यह देखी कि एनआरआईयों को सुविधाएँ को यूरोप की ही चाहियें, परन्तु दिमाग में वर्णवाद का कचरा वही रखना जो हमारे समाज का सबसे बड़ा कलंक है|

जय यौद्धेय! - फूल मलिक